[ गन्ना फसल सुरक्षा अनुदान 2022 ] जानिए उत्तर प्रदेश मे गन्ना फसल की सुरक्षा के लिए प्रति हेक्टेयर अनुदान/सब्सिडी राशि – Uttar Pradesh Sugarcane Crop Scheme

Last Updated on October 14, 2022 by krishi sahara

उत्तरप्रदेश गन्ना फसल सुरक्षा अनुदान – सभी गन्ना किसानों के लिए एक और बड़ी खुशखबरी है, गन्ना फसल के अच्छे उत्पादन और पैदावार को बढ़ाने को लेकर प्रति हेक्टेयर की दर से सहायता राशी देगी, यह फैसला हाल ही मे उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा गन्ना किसानों के हित में लिया गया है|

गन्ना-फसल-सुरक्षा-अनुदान

गन्ना की खेती के विकास को लेकर इस बड़ी उपडेट के बारे मे आपको सम्पूर्ण जानकारी मिलेगी- गन्ना फसल सुरक्षा अनुदान 2022, गन्ना फसल की सुरक्षा के लिए प्रति हेक्टेयर अनुदान/सब्सिडी राशि क्या होगी? गन्ना फसल सुरक्षा अनुदान 2022 का लाभ कैसे ले? गन्ना फसल सुरक्षा अनुदान 2022 के लिए पात्रता आदि विषयो पर आज हम चर्चा करने वाले है –

गन्ना फसल सुरक्षा अनुदान स्कीम क्या है ?

गन्ना फसल सुरक्षा अनुदान स्कीम को उत्तर प्रदेश राज्य सरकार द्वारा गन्ना फसल को रोग-कीट, कीटनाशक, फसल सुरक्षा प्रदान करना है| गन्ना फसल के लिए बुवाई प्रबंधन और कीटनाशक दवाइयों के खर्चे पर 50 % तक की राशी की सहायता के रूप मे दी जाएगी |

राज्य में गन्ना किसानों को बीज भूमि उपचार कार्यक्रम और वृक्ष प्रबंधन कार्यक्रम के अंतर्गत अनुदान योजनाओ को मिलकर यह एक सब्सिडी राशी के रूप मे लाभ दिया जाएगा|

गन्ना फसल सुरक्षा अनुदान 2022 ?

योजना का नामगन्ना फसल सुरक्षा अनुदान
किसके द्वारा शुरू कीउत्तर प्रदेश राज्य सरकार द्वारा शुरू की
लाभार्थीयूपी के सभी गन्ना किसान
अनुदान/सब्सिडी राशिअधिकतम 900 रुपए प्रति हैक्टेयर, 50% अनुदान
फसलकेवल गन्ना

गन्ना किसान को रसायन खाद खरीद पर सब्सिडी ?

अब गन्ने की खेती करने वाले किसानों को कृषि रसायनों को खरीदने पर 900 रुपए प्रति हेक्टेयर की सब्सिडी राशी दी जाएगी, गन्ना किसानों को गन्ना की बुआई से गन्ना की कटाई तक फसल सुरक्षा रसायन की दर से अनुदान दिया जाएगा|

इससे पहले बीज भूमि उपचार कार्यक्रम के तहत गणना रसायनों पर लागत का 50 % या फिर अधिकतम 500 रुपए / हैक्टेयर की अनुदान राशि दी जाती थी|

गन्ना फसल में कौन-कौनसे कीटनाशक का प्रकोप सर्वोधिक रहता है ?

इस फसल में कई प्रकार के रोग-कीट की समस्या देखने को मिलते है, जो गन्ना फसल में काफी नुकसान पहुंचा सकते है – गन्ने की फसल में दीमक, बिज्ट रोग, पायरिला, लाल सड़न, अंकुर बेधक, शूट बोरर, चोटीबेधक, गन्ना बेधक, काला चिकटा, सफेद मक्खियां, कंडुआ रोग आदि | इन समस्याओ के निवारण के लिए सरकार गन्ना किसानों के लिए इस स्कीम के तहत अनुदान जारी करती है |

उत्तर प्रदेश मे गन्ना फसल की सुरक्षा की प्रमुख योजनाए ?

उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से गन्ने की फसल की सुरक्षा हेतु गन्ना किसानों को 2 अलग-अलग योजनाओं को मिलाकर – एक योजना गन्ना फसल की सुरक्षा अनुदान के माध्यम से प्रति हैक्टेयर के हिसाब से दी जाएगी |

उत्तर प्रदेश मे गन्ना फसल की सुरक्षा की पहली योजना बीज मृदा उपचार कार्यक्रम और दूसरी योजना वृक्ष प्रबंधन कार्यक्रम है| परंतु अब उत्तर प्रदेश सरकार ने दोनो योजनाओं को मिला दिया है और इससे मिलने वाले अनुदान को भी बढ़ा दिया गया है|

उत्तर प्रदेश कीट-नाशकों पर आर्थिक अनुदान हेतु दस्तावेज ?

  • गन्ना किसान का आधार कार्ड
  • खेत के खसरा-खतोनी
  • बैंक खाता संख्या
  • मोबाइल नंबर
  • गन्ना बुवाई का रकबा
  • कीट-रसायन बिल

गन्ना फसल सुरक्षा के लिए अनुदान राशि कितनी मिलेगी ?

पुरानी दो स्कीम को मिलकर यह एक नई स्कीम बना दी है, जिससे अनुदान राशी को बढ़ाकर प्रति हेक्टेयर 900रु या 50% अनुदान दिया जाएगा |

यूपी गन्ना फसल सुरक्षा योजना का लाभ कैसें लेवे ?

यूपी गन्ना फसल सुरक्षा योजना का लाभ लेने के लिए आपको इस योजना में ऑनलाइन आवेदन करना होगा या फिर आप नजदीकी कृषि विभाग में जाकर आवेदन करें |

यह भी जरूर पढ़ें…

Leave a Comment

error: Alert: Content is protected !!