[ शक्कर / चीनी कैसे बनती है 2021 ] देश मे चीनी मिल, उत्पादन, बाजार भाव और गन्ने से शक्कर बनाने की पूरी जानकारी- chini kaise banti hai

चीनी कैसे बनती है | शक्कर कैसे बनती है | chini kaise banti hai | चीनी सफेद कैसे होती है | चीनी कौन चीज से बनता है | Sugar कैसे बनती है | किसानों को कितना मिलता है चीनी उद्धोग से गन्ने का भाव

चीनी का उत्पादन, व्यापार और उद्धोग देश की अर्थव्यवस्था मे महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे है | भारत मे उतरप्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु, मध्यप्रदेश, बिहार, राजस्थान जैसे आदि राज्यो मे सरकारी और निजी क्षेत्र मे कार्यरत अनेकों शुगर मिले है, जो चीनी का उत्पादक करती है | चीनी मुख्य रूप से गन्ना, चुकंदर से मिलों मे रिफाइन/ प्रोसेसिंग करके बनती है | गन्ना, चुकंदर के अलावा चीनी प्रकर्तिक रूप मे फल, शहद मे भी पाई जाती है |

चीनी-कैसे-बनती-है

आइए जानते है देश मे चीनी कैसे बनाई जाती है, गन्ना / चुकंदर से चीनी कैसे बनता है, प्रोसेसिंग और देश में शक्कर उत्पादन के बारे मे सम्पूर्ण जानकारी –

चीनी कैसे बनती है- गन्ने और चुकंदर चीनी बनाने मे खेत से बाजार तक का सफर ?

चीनी बनाने के लिए ज्यादातर गन्ने का इस्तेमाल किया जाता है | मिल क्षेत्रों के आस-पास गन्ने की काफी क्षेत्र मे मिल कम्पनीया कांट्रेक्ट फ़ार्मिंग या किसान निजी फसल के माध्यम से गन्ने की खेती तैयार करते है | पक्की हुई गन्ने की फसल की कटाई कर ट्रेक्टर / ट्रकों भरकर शुगर मील मे पहुंचाया जाता है |

  • मील में आने के बाद इन गन्नो को कन्वेयर बेल्ट पर फैलाया जाता है | जिन पर पानी के तेज प्रेशर से गर्म पानी को डाला जाता है, जिससे सारी गंदगी वह कीटाणु निकल जाते हैं |
  • इसके बाद गन्ने को मिलिंग मशीन में भेज दिया जाता है, लेकिन इसके पहले मशीनों से छोटे-छोटे भागों में काट दिया जाता है |
  • इसके बाद इन गन्नो को वेक्यूम प्रेशर द्वारा सुखाया जाता है, फिर इन गन्नो को एक बड़े रोलर मशीन में भेज दिया जाता है, जो गुन्नो को पूरी तरह से कुचलकर उसका रस निकाल देती है | इसके बाद जो कचरा बच जाता है, उसे एक कन्वेयर बेल्ट की सहायता से बहार किया जाता है |
  • चीनी सफेद कैसे होती है- इसके बाद इस रस में गर्म पानी को मिलाया जाता है | गन्ने से निकलने वाला रस हरे रंग का एसिड होता है, जिसे शुद्ध करने के लिए उसका रंग बदलने के लिए चुने का दूध जो खट्टे पान को दूर करता है और चुकंदर का रस कैल्शियम, कार्बोनेट, कैल्शियम सल्फाइड और अन्य चीजों को मिलाया जाता है |
  • रसायन क्रियाओ से इस रस में उपस्थित अशुद्धि को हटाया जाता है | इस गन्ने के रस को ठंडा किया जाता है, फिर सीट मशीन में डाला जाता है जो इसे पानी के साथ साफ करती है |
  • इस पानी वाले सिरप को गर्म किया जाता है, जिससे सारा पानी वाष्प बनकर उड़ जाता है, जिससे रस गाढ़ा हो जाता है |
  • 70% मिथाइलेड स्प्रिंड और 30% ग्लिसरीन को मिलाया जाता है, जिससे कि इसका रंग सफेद हो जाता है धीरे-धीरे क्रिस्टल का रूप लेने लगता है |
  • इसी दौरान इस गाढे पेस्ट के एक दानेदार एसिड ट्रिन मशीन से निकाला जाता है, जो इससे चीनी का चौकोर आकार देता है, फिर इसे गर्म हवा से सुखाया जाता है। इसके बाद इसे पैकिंग कर के मार्केट में भेज दिया जाता है |

चीन में खेती कैसे की जाती है- agriculture in china vs india

चीनी के प्रमुख दूसरे छोटे-मोटे उत्पाद ?

चीनी को उपयोग के आधार पर प्रमुख रूप से कई काम मे लिया जाता है जैसे- घरेलू उपयोग, मिठाई, शराब, इथेनॉल, देशी खांड, गुड, मिश्री, आदि |

चीनी मिलों से निकलने वाले कचरा अपशिष्ट को भी कई प्रकार से काम मे लिया जाता है | इथेनॉल को हाल ही मे शर्करा वाली फसलों से प्राप्त किया जाता है ,जो पेट्रोल जैसे ईधन मे मिलकर काम मे लिया जाता है |

राष्ट्रीय बागवानी मिशन क्या है 2021

चीनी उद्धोग से गन्ने का भाव ?

शक्कर निर्माण उद्धोगो को गन्ना किसानों का सेठ माना जाता है | उतर प्रदेश मे गन्ने के भावों की बात करें तो, वर्तमान मे गन्ना किसानों को इस प्रकार गन्ने का भाव मिल रहा है –

  • रिजेक्टेड वैरायटी के लिए 310 रुपये प्रति क्विंटल
  • सामान्य प्रजाति के गन्ने के लिए 315 रुपये प्रति क्विंटल
  • अगैती प्रजाति के लिए 325 रुपये प्रति क्विंटल
चीनी कैसे बनती है एव जुड़ी जानकारी | शक्कर कैसे बनती है

देश में चीनी उत्पादन ?

देश के बड़े जानकारों और अकड़ो की माने तो आने वाले कुछ समय मे दुनिया मे भारत, ब्राजील को पीछे छोड़कर चीनी उत्पादन मे आगे आ जाएगा | 2021 के शुरुआत के आकड़ों के अनुसार अब तक पिछले साल की तुलना मे 31 % ज्यादा उत्पादन हुआ है जो, 142.70 लाख टन है | भारत मे शक्कर की कुल खपत लगभग हर साल 140 से 155 लाख टन होती है और उत्पादन 180 लाख टन के आस-पास होता है |

हर साल कुल चीनी उत्पादन का कुछ हिस्सा विदेशों मे निर्यात किया जाता है |

केसर की खेती कैसे होती है- केसर की खेती कब और कैसे करें

देश में चीनी उत्पादन कहां-कहां होता है ?

2020-21 के आकड़ों के अनुसार- सर्वोधिक चीनी उत्पादन उतरप्रदेश (57.80 लाख टन ), महाराष्ट्र 37.35 लाख टन, कर्नाटक 28.90 लाख टन के बाद, तमिलनाडु , गुजरात, आंध्र प्रदेश, तेलंगान, बिहार, उत्तराखंड, छत्तीसगढ़, राजस्थान, पंजाब-हरियाणा, मध्य प्रदेश, उड़ीसा में भी चीनी का उत्पादन किया है |

चीनी-कैसे-बनती-है
चीनी कैसे बनती है एव जुड़ी जानकारी | शक्कर कैसे बनती है

चीनी का भाव / चीनी का बाजार भाव 2021-22

देश की चीनी कंपनियों की सुधरती हालत के साथ इन दिनों शक्कर के भावों मे चमक देखने को मिल रही है |जुलाई मे आज थोक मंडीयों में चीनी शक्कर 3350 से 3400, शक्कर मोटा दाना 3450 से 3500 रुपये प्रति क्विंटल बिक रहा है |

ये भी पढ़े –

चीनी कौन चीज से बनता है?

किसी भी प्रकार की शर्करा युक्त फसल से बनती है, जिसमे गन्ना, चुकंदर से सबसे ज्यादा उत्पादन लिया जाता है | शर्करा इस फसलों के अलावा शहद, मीठे फलों मे भी रहती है |

शक्कर/चीनी की ताजा खबर ?

पिछले दिनों से सरकार और भारतीय शेयर बाजार मे चीनी मिलों की चांदी बनी हुई है | चीनी उद्धोग / व्यापार मे उत्पाद और भाव मे तेजी है, जिसका अनुमान पिछले 1 साल से लगा सकते है | अधिक जानकारी के लिए इन दिनों शक्कर बाजार की ताजा समाचार के लिए देखे – आज का शक्कर बाजार 2021

Leave a Comment