पंजाब में खेती कैसी होती है, जानिए खेती और सिचाई व्यवस्था

पंजाब में खेती यह सवाल पूरे भारत और विश्व मे चला आ रहा है साथ ही पंजाब की खेती पूरे देश मे प्रशिद्ध है | पंजाब राज्य एक कृषि प्रधान राज्य है यहाँ के किसानों मे खेती-बाड़ी को लेकर काफी क्रियाशील और जागरूक है | पंजाब क्षेत्र गेहू, चावल और सब्जियों के उत्पादन मे प्रषिद्ध है, इसलिए पंजाब को “भारत का अन्न भंडार” अर्थाथ “भारत की रोटी-टोकरी” भी कहा जाता है।

यहाँ सिचाई के अच्छे स्रोत और सुविधा होने के कारण कृषि मे काफी विकसित राज्य है | पंजाब का क्षेत्र जलवायु के हिसाब से j-4 मे आता है, जिसे “ट्रांस-गंगा मैदानी क्षेत्र” कहा जाता है | पंजाब के किसान खेती को सदियों से आ रहे पेशेवर काम (खेती-बाड़ी) को हर समय लाभदायक बना रहे है |

पंजाब में खेती
पंजाब में खेती

पंजाब में खेती की खास बाते Important points of farming in Punjab?

  • माना जाता है पंजाब की भूमि, खेती के लिए बहुत ही उपजाऊ है |
  • गेहू की फसल पंजाब की खूब विकसित फसल मानी जाती है |
  • पंजाब ने 1991 से लेकर 1999 तक और 2001 से 2004 तक निरंतर कृषि विस्तार सेवाओ का राष्ट्रीय उत्पादक पुरुस्कार प्राप्त कर रखा है |
  • राज्य मे चार बड़ी नदिया रवि,व्यास, सतलज,घंन्घर,के साथ-साथ कई छोटी और मोसमी नदिया भी है जो पूरे पंजाब मे बहती है |
  • पंजाब को पिछले 20-30 सालों से अनाजों के उत्पादन मे 50-69% की भारी वृद्धि दर्ज की, इस कारण पंजाब को “भारत का अनाज भंडार” होने का खिताब भी मिल हुआ है |
  • देश का यह राज्य खेती-किसानी और सरकार की कृषि नीतियों के प्रति काफी सक्रिय है |
  • यहाँ नहरों का व्यापक तौर पर काम मे लिया जाता है |
  • किसानों के पास हर प्रकार के सिचाई के साधनो और सिचाई पानी की पूरी सुविधा है |
  • पंजाब में खेती करने का इतिहास और तरीके पूरे देश के किसानों के लिए प्रेणना की बात है |

ये भी पढ़े :-

पंजाब मे उत्पादित प्रमुख फसले Panjab ki pramukh fasle ?

बात करे यह उत्पादित होने वाली फसलों की ,वैसे तो यह सभी प्रकार की फसलों की खेती की जाती है , लेकिन पंजाब देश मे चावल और गेहू की बम्पर पैदावार होती है |

  • फलों की बात करे तो पंजाब मे किनोव(किननु) का बहुत मात्रा मे भंडार उत्पादन होता है |
  • पंजाब मे चावल ,गेहू के अलावा कपास,मक्का,ज्वार,बाजरा,गन्ना जैसी आदि खाध्यान की पैदावर की जाती है |
  • इनके अलावा बात करे सब्जियों की तो लगभग सभी प्रकार की सब्जियों का उत्पादन किया जाता है |

पंजाब के खेतों मे सिचाई की व्यवस्था sichai system in the fields of Punjab?

यहाँ की सिचाई व्यवस्था के मुख्य स्रोत नहरे और नलकूप है जिनका विकास् और सवर्धन का श्रेय यहा की सरकार और प्रशासन पर जाता है | पंजाब के किसान पूर्ण आत्मनिर्भर है यहाँ के किसानों के पास पूरे विकसित साधन और तौर तरीके है –

  • यहा के किसान खेती के लिए पूर्ण रूप से मानसून पर निर्भर नहीं होते है |
  • Panjab ke kisan सिचाई मे निजी ,सरकारी टयूबेलों तथा सिचाई नहरों का उपयोग करते है |
  • पंजाब के किसानों के लिए यहा की सरकार ने राज्य मे 1134 पक्की नहरों का निर्माण कराया है |
  • राज्य मे 1615 ट्यूबवेल लगे हुए है जो कुल सिंचित क्षेत्र का 55-60% भूमि ट्यूबवेलों से किया जाता है |
  • यहा खेती 40% सिचाई नहरों से की जाती है जो कुल सिंचाई क्षेत्र का 33.88 क्षेत्र है |
  • राज्य मे चार बड़ी-बड़ी नदियों का पानी मुख्य सिचाई का स्त्रोत है |

ये भी पढ़े :-

-R.Kumawat

Leave a Comment