[ सोयाबीन की नई किस्म 2023 ] जानिए सोयाबीन की अच्छी वैरायटी कौन सी है – Top 10 Soybean Varieties

Last Updated on January 17, 2023 by krishi sahara

सोयाबीन की नई किस्म 2023 | सोयाबीन की अच्छी किस्म कौन सी है – सोयाबीन की प्रमुख किस्में | सोयाबीन की उत्तम किस्में | सोयाबीन सीड्स की उन्नत किस्में mp, up, राजस्थान, महाराष्ट्र, गुजरात, दक्षिण भारत –

सोयाबीन-की-नई-किस्म

खरीफ के सीजन में सोयाबीन की फसल की खेती कर अच्छा उत्पादन लेने के लिए सबसे जरूरी बात जो आती है – सोयाबीन बीज का चुनाव करना, आज हम बात करने वाले है उतरी भारत के राजस्थान, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात, यूपी जैसे राज्यों में फल-फूलने वाली टॉप 10 सोयाबीन की उत्तम किस्मों के बीजों के बारे में – इन वैराईटियों को लगाकर किसान फसल को रोगमुक्त और ज्यादा पैदावार ले सकते है –

टॉप 10 सोयाबीन की नई किस्म 2023 –

सोयाबीन की उत्तम किस्मेंसोयाबीन वैरायटी का सम्पूर्ण विवरण –
सोयाबीन किस्म VS 6124इस किस्म के पौधे 3 से 6 फिट उंचाई में होते है, जो अधिक फूल-फलीयों के साथ अच्छी पैदावार के लिए जानी जाती है फसल 90 से 95 दिनों में पककर तैयार हो जाती है| उत्पादन की बात करें तो 20 से 25 क्विंटल/हेक्टेयर ले सकते है| यह वैराईटी रोगों के प्रति प्रतिरोधक अधिक है, बुवाई का समय 15 जून के बाद में माना गया है |
JS 2034यह सोयाबीन की नई किस्म 2034, 15 जून से लेकर 30 जून तक बुवाई कर लेनी चाहिए जो 85 से लेकर 90 दिनों में पककर कटाई के लिए तैयार हो जाती है| उत्पादन की बात करें तो 25 क्विंटल के लगभग प्रति हेक्टेयर होता है | – अधिक जानकारी
फुले संगम / KDS 726यह किस्म महात्मा फुले कृषि विधापीठ महाराष्ट्र से निकली गई थी, 100 से 110 दिन में पककर तैयार होने वाली किस्म जिसमे किट एव रोग न के बराबर देखने को मिलते है| महाराष्ट्र और दक्षिणी भारत में ज्यादातर लगाईं जा रही है, फुले संगम सोयाबीन की औसत उपज 25 से 30 क्विंटल/हेक्टेयर है और इसमें हाईटेक तरीके से तैयार खेती से 40 क्विंटल/हेक्टेयर तक की उपज भी देखी गई है |
प्रतापसोया – 45100 से 105 दिन में पकने वाली किस्म है, यह ज्यदातर राजस्थान और उतरी भारत के लिए ज्यादा अनुमोदित है| RKS- 45 की अधिकतम उपज उत्पादन क्षमता 30 से 35 क्विंटल/हेक्टेयर है| यह वैराईटी इल्ली रोगमुक्त किस्म है |
PS – 1347औसत उपज पैदावार क्षमता 30 क्विंटल/हेक्टेयर देखी गई है| उतरी भारत के राजस्थान, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात, यूपी में इसे लगा सकते है| यह वैराईटी 100 दिनों में कटाई के लिए तैयार हो जाती है| यह पिला मोजेक रोग रोधी प्रमाणित वैराईटी है |
VL Soya – 59 और दूसरी 63इस वैराईटी के पौधो में फली सडन और पत्तियों पर धब्बा रोग नही लगता है| प्रति हेक्टेयर उत्पादन 25 से 30 क्विंटल हो जाता है| उतरी भारत के पहाड़ी क्षेत्रों में इस किस्म को लगा सकते है, यह किस्म को पकने में अधिक समय लगता है जो 125 से 130 दिन है |
MACS – 1407यह किस्म इस साल से खरीफ की फसल मे लगाई जाएगी, यह हाल ही मे भारत मे विकशीत की गई है जो असम, पश्चिम बंगाल, झारखंड, छत्तीसगढ़ और पूर्वोत्तर राज्यों में खेती के लिए उपयुक्त होगी, यह बीज खरीफ के मौसम मे किसानों को बुवाई के लिए मई-जून से बाजार मे उपलब्ध कराई जाएगी |
सोयाबीन किस्म JS 9560उत्पादन 25 से 30 क्विंटल/हेक्टेयर उत्पादन होता है| 40 किलो/एकड़ बीज की मात्रा से बुवाई की जानी चाहिए, जो 80 से 85 दिन में पककर तैयार होती है | 
बिरसा सफेद सोया – 2झारखंड और इसके आस-पास वाले राज्यों के लिए सर्वोधिक अनुमोदित किस्म है जो 25 से 30 क्विंटल/हे. उत्पादन देती है| इस किस्म में इल्ली और पत्ती धब्बा रोग नही देखने को मिलता है |
MAUS – 612देश की मध्यम और भारी मिटटी वाली भूमि में इस किस्म को लगा सकते है, जिसका उत्पादन 30 से 35 क्विंटल/हेक्टेयर तक हो जाता है| 90 से 100 दिन में कटाई पर आ जाती है| पिछले कुछ सालों से महाराष्ट्र में सर्वोधिक इसकी बुवाई देखी जा रही है |
सोयाबीन-की-वैराइटिया

सोयाबीन में सबसे अच्छी किस्म कौन सी है?

महाराष्ट्र और दक्षिण भारत में – KDS 726, MAUS-612, PS-1347,
मध्य एव उत्तर भारत में – JS की 20-34 और JS 20-69, VS 6124, JS 2034, प्रतापसोया – 45 आदि |
राजस्थान में – प्रताप सोया – 45, JS की अनुमोदित वैराइटिया आदि |

सोयाबीन की नई वैरायटी कौन सी है?

देश में अब आने वाली सभी प्रकार की उन्नत वैराईटियों की रोग प्रतिरोधक क्षमता अच्छी होती है 2023 के लिए हाल ही मे नवीनतम किस्म MACS – 1407 है|

यह भी जरूर पढ़ें…

Leave a Comment

error: Alert: Content is protected !!