[ राष्ट्रीय बागवानी मिशन 2023 ] यहाँ जानिए – राष्ट्रीय बागवानी बोर्ड सब्सिडी योजनाओं के बारे मे – National Horticulture Mission

Last Updated on January 13, 2023 by krishi sahara

सरकार कृषकों की आय मे वृद्धि लाने के उद्देश्य से 2005-06 से राष्ट्रीय बागवानी मिशन शुरू किया गया प्रोग्राम है| राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था मे महत्वपूर्ण योगदान की संभावना को देखते हुए सरकार प्रोत्साहन मे ला रही है Rashtiya Bagvani Mission के द्वारा किसानों को उच्च मूल्य वर्धन वाली फसलों को बढ़ावा मिलेगा, बागवानी के अंतर्गत फल (बागान Plantation), सब्जिया, मसालें, पुष्प और नारियल आते है |

राष्ट्रीय-बागवानी-मिशन

सरकार किसानों को अच्छी गुणवता और अधिक उत्पादन वाले पोधों एव फसलों को बड़ावा दे रही है बागवानी मिशन के द्वारा पोधों की आपूर्ति के लिए अलग से ग्राफ्टिंग बैंक बनाए है| ग्राफ्टिंग बैंक बहुत भारी संख्या मे बागवानी पोधे लगाएगा और किसानों को वितरित करेगा |

राष्ट्रीय बागवानी बोर्ड सब्सिडी योजनाओं के बारे मे –

योजना का नामRashtriya bagwani mission
शुरुआतवित वर्ष 2005-06 से
सरकारी वेबसाइटराष्ट्रीय बागवानी बोर्ड
उद्देश्यकृषकों की आय मे वृद्धि हेतु- प्रशिक्षण, साधन, सुविधा और बाजार दिलाना

बागवानी मिशन की शुरुआत कब हुई ?

बागवानी मिशन की शुरुआत किसानों की बागवानी के अंर्तगत आने वाली फसलों के बड़ावा देने के लिए मई 2005 मे की गई योजना है | सरकार का यह मिशन दसवी पंचवर्षीय योजना के दौरान किया गया था |

बागवानी मिशन से देश के किसान और अर्थव्यवस्था पर प्रभाव ?

Bagvani Mission के अंतर्गत फल,सब्जिया, मसले आदि आते है जिनमे मिशन का काफी फर्क पड़ा है जो आकड़ों से दिखाता है –

फल – आम, केला, नींबू , चीकू की पैदावार मे भारत आगे है विश्व के कुल फल उत्पादन मे भारत 10% का उत्पाद अकेला करता है | 2015-16 के आकड़ों के अनुसार कुल फलों का उत्पादन 90183 हजार टन रहा था |

मसालें – मसलों की बात करे तो भारत को मसलों का घर कहा जाता है मसलों के उत्पादन और निर्यात मे सबसे बडा एव उपभोग मे भी प्रथम है |

सब्जिया – विश्व मे सर्वोधिक सब्जिया चीन मे और दूसरे नंबर पर भारत का ही नाम आता है| भारत मे सब्जियों के मामले मे फूल गोबी, बंद गोभी, प्याज, और आलू, टमाटर प्रमुख सब्जिया है | वर्ष 2015-16 मे कुल सब्जियों की पैदावार 169064 हजार टन रही थी |

देश मे Rashtiya Bagvani Mission की शुरुआत से पहले 2002-03 मे बागवानी 16.4 मिलियन हेक्टेयर पर होती थी जो बढ़कर 2005-06 मे 20 मिलियन हो गई |

2005-06 के आकड़ों मे बागवानी से कुल उत्पादन 185 मिलियन टन था, जो बढ़कर 2012-13 मे 265 मिलियन टन हो गया |

बागवानी मिशन के प्रभाव से ही इस समय अंतराल मे कृषि का GDP का 28% योगदान रहा |

राष्ट्रीय बागवानी मिशन के मुख्य उद्देश्य क्या है?

सरकार कृषकों की आय मे वृद्धि लाने के उधेश्य से हर एक सुविधा किसानों तक पहुचना है |

बागवानी विभाग क्या है?

यह विभाग बागवानी उद्योग के एकीकृत विकास में सुधार करना और फलों एवं सब्जियों के उत्पादन और प्रसंस्करण को बनाए रखने मे विस्तृत काम करता है ज्यादा जानकारी के लिए – बागवानी विभाग

क्या राष्ट्रीय बागवानी मिशन?

किसानों की बागवानी के अंर्तगत आने वाली फसलों के बड़ावा देने के लिए मई 2005 मे की गई योजना है

राष्ट्रीय बागवानी मिशन की स्थापना कब हुई?

मिशन की स्थापना मई 2005 मे दसवी पंचवर्षीय योजना के दौरान की गई योजना है |

यह भी जरूर पढ़ें…

Leave a Comment

error: Alert: Content is protected !!