[ मूंग की उन्नत किस्में 2022 ] जानिए mp, up, राजस्थान, महाराष्ट्र, गुजरात में बोई जाने वाली मूंग की सबसे अच्छी किस्में – Top Improved Varieties of Moong

मूंग की उन्नत किस्में mp | राजस्थान में मूंग की उन्नत किस्में | मूंग के बीज का रेट | हाइब्रिड मूंग का बीज | मूंग की अच्छी किस्में

जो किसान भाई मूंग की खेती करके अच्छा मुनाफा और उत्पादन लेना चाहते है उनके लिए सबसे जरूरी और समझदारी की बात आती है – मूंग के बीज का चुनाव | आज हम बात करेंगे मूंग की उन्नत और प्रमाणित बीज किस्में जो राजस्थान, मध्यप्रदेश, गुजरात, उत्तरप्रदेश की जलवायु और मिटटी में अच्छा उत्पादन और चमक के साथ अच्छा भाव दिलाने में मदद करेगी |

मूंग-की-उन्नत-किस्में

टॉप 10 मूंग की उन्नत किस्में –

प्रमाणित हाइब्रिड मूंग का बीज मूंग की अच्छी किस्मों का विवरण
गिरनार 22G22 मूंग बीजगिरनार कम्पनी का यह बीज सात शाखाओ वाली मानी जाती है, जो अच्छे उत्पादन के लिए अधिक लगाई जाती है | इस किस्म का दाना काफी हरा चमकीला और मोटा होता है | राजस्थान, मध्यप्रदेश, गुजरात, उत्तरप्रदेश के किसानों ई पहली पसंद बनी हुई है | गिरनार 22G22 मूंग बीज का उत्पादन 12 से 15 क्विंटल / हेक्टेयर तक देखा जाता है | यह किस्म 55 से 65 दिन में पककर तैयार हो जाती है |
MH – 421 मूंग बीजखरीफ बुवाई का उपयुक्त समय – जून से जुलाई वसंत – 15 फरवरी तक गर्मी – 15 अप्रैल तक बोया जाता है | पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड बुवाई के लिए अच्छा माना गया है |
हरियाणा कृषि विश्वविधालय द्वारा विकशित यह बीज रोग प्रतिरोधक सहनशील और उत्पादन की दृष्टि से काफी अच्छी किस्म मानी जाती है | पिला मोजेक रोगमुक्त किस्म है | उत्पादन इसका 8 से लेकर 10 क्विंटल / एकड़ लिया जा सकता है | बीघे के हिसाब से 3 से 3.5 क्विंटल / एकड़ उपज होती है | बीज के डेन मोटे चमकीले और भारी होते है | इसका बीज बाजार में आप आसानी से खरीद सकते है | अधिक पढ़े – मूंग MH-421
पूसा विशाल यह किस्म 60 से 70 दिन में पककर तैयार हो जाती है | 5 से 6 क्विंटल / एकड़ तक का उत्पादन देती है | हेक्टेयर में बात करें तो 10 से 11 क्विंटल / हेक्टेयर उपज ले सकते है |
इस किस्म के बीज की बुवाई का समय – वसंत ऋतू में 12 – 28 मार्च |ग्रीष्मकालीन /गर्मी सीजन में – 24 मार्च से 8 अप्रैल | खरीफ मौसम के लिए जुलाई- अगस्त | अधिक पढ़े – पूसा विशाल मूंग बीज
जवाहर मूंग -721इन्दोर कृषि महाविधालय mp से विकशित यह बीज ग्रीष्मकालीन और खरीफ के लिए बोई जा सकती है | उत्पादन की बात करें तो – 12 से 14 क्विंटल / हेक्टेयर तक ले सकते है | जवाहर मूंग -721 पीला मोजेक एवं पाउडरीमिल्डयू रोग के प्रति सहनशील किस्म है |बुवाई से 70 से 75 दिन बाद कटाई के लिए तैयार हो जाते हैंअधिक जानकारी के लिए – जवाहर मूंग -721
पूसा रत्ना 60-65 दिन में पककर तैयार होने वाली यह किस्म उत्तरप्रदेश में काफी बोई जाती है | इस बीज किस्म से 5 से 6 क्विंटल / एकड़ तक का उत्पादन ले सकते है | बुआई का समय वसंत ऋतु के लिए फरवरी-मार्च , ग्रीष्म ऋतु के लिए 20 मार्च से 10 अप्रैल , खरीफ ऋतु में 15 जुलाई से 10 अगस्त
बीज बुआई के समय बीज दर 22 किग्रा./ हेक्टेयर रखनी चाहिए |
HUM-1 / हम -1यह काफी पुराणी और अभी तक बुवाई में किसान की पसन्द बनी हुई किस्म है जो वाराणसी कृषि विधालय से विकशित हुई | उपज पैदावार की बात करें तो 8-9 क्विंटल / हेक्टेयर जो 65-70 दिन में पककर तैयार हो जाती है | ग्रीष्म एवं खरीफ दोनो मौसम के लिये उपयुक्त मूंग बीज है | पीला मोजेक एवं पर्णदाग रोग के प्रति काफी सहनशील किस्म है |
ग्रीन गोल्ड मूंग बीजइस किस्म में मूंग की फलिया काफी संख्या में गुच्छेदार रूप में लगती है | बीज बजनदार और हरा चमकीला होता है जो बाजार में अच्छा भाव दिलाने में मदद करता है | अधिक उपज के लिए महशूर यह किस्म 13 से 15 क्विंटल / हेक्टेयर उपज देता है |
NM-47 मूंग की अधिक पैदावार देने वाली किस्मों में जानी जाती है यह किस्म, पकने की समय 60-65 दिन का होता है | यह किस्म पिला मोजेक, पति धब्बा, छाछिया रोग के प्रतिरोध है | पैदावार की बात करें तो 9 से 10 क्विंटल / एकड़ उपज आकी जा सकती है |
RMG268यह राजस्थान में मूंग की उन्नत किस्मों में खरीफ सीजन के लिए अच्छी मानी जाती है, 60 से 70 दिन में पककर तैयार हो जाती है | झुलसा रोग, पत्तीधब्बा रोग मोजेक जैसें रोगों के प्रतिरोधक है |
जयनित क्रांतिग्रीष्म और बरसात ऋतू में अधिकतर इसकी बुवाई की जाती है | पीलिया और मोजेक रोग के प्रति सहनशील किस्म है | बीजों के दाने हरे और मोटे चमकीले होते है, 65 से 70 दिन में पक जाती है | 10 से 12 क्विंटल प्रति एकड़ उत्पादन लिया जा सकता है |
दिनकर मूंग बीज/ शरीफ-1इस किस्म को SHARIF-1 के नाम से भी जाना जाता है, फली और पौधो की उचाई-लम्बाई काफी होती है | मूंग की यह वैराईटी 50 से 60 दिन में पककर तैयार हो जाती है | डालिया वजनदार और गुछो के रूप में होती है | अधिकतम उपज पैदावार की बात करें तो 10 से 13 क्विंटल प्रति हेकटेयर ले सकते है |
महावीर वेस्टर्न मूंग ब्रांडपौधे में कई शाखाये और उचाई में 50 से 70 सेंटीमीटर तक होती है | जल्दी पकने वाली बीज किस्म है जो 55 से 65 दिन में पककर तैयार हो जाती है | उत्पादन की बात करें तो 10 से 13 क्विंटल प्रति हेक्टेयर तक लिया जा सकता है |
मूंग की उन्नत किस्में 2022
हाइब्रिड-मूंग-का-बीज
मूंग की उन्नत किस्में

हाइब्रिड मूंग का बीज उपचार कैसे करें ?

किसी भी प्रकार का बीज बुवाई से पहले उपचारित करना चाहिए, आज के समय बाजार में थीरम/कैप्टन/कार्बेनडाज़िम जैसी दवा से 3.0 ग्राम/किलोग्राम बीज की दर से बोने से 2 दिन पहले उपचारित कर सकते है |

मूंग का अच्छा बीज कौन सा?

बीज का चुनाव करने से पहले किसान अपने खेत की मिटटी, क्षेत्र में प्रचलित किस्मों का ही चयन करना चाहिए, किसी विशेष किस्म के बीज के बारे में ज्यादा जानकारी आपने नजदीकी कृषि सेवा केंद्र से सलाह ले सकते है |

राजस्थान में मूंग की उन्नत किस्में?

दिनकर मूंग बीज, ग्रीन गोल्ड, अमृत, कृष्णा 11, महावीर, गिरनार 22G22, MH – 421, पूसा विशाल, रत्ना, आर एम जी 268, पंत मूंग 1, वर्षा, सुनैना आदि राजस्थान की जलवायु के अनुरूप अच्छी पैदावार देती है |

मूंग की उन्नत किस्में mp?

टॉम्बे जवाहर मूंग-3, जवाहर मूंग -721, के – 851, पी.डी.एम – 11, दिनकर मूंग बीज, ग्रीन गोल्ड, अमृत, कृष्णा 11, महावीर, गिरनार 22G22, MH – 421, पूसा विशाल, रत्ना आदि प्रमाणित बीज को mp प्रदेश में लगा सकते है |

1 एकड़ में मूंग का बीज कितना लगता है?

किसान भाई यदि बाजार से उन्नत बीज लाकर बुवाई करता है तो बीज कम्पनी के दिशा-निर्देश/ लिखित डेटा के अनुसार बुवाई करना चाहिए | घर से तैयार मूंग बीज की मात्रा एक एकड़ के लिए 10 से 15 किलोग्राम प्रति एकड़ के हिसाब से रख सकते है |

मूंग की फसल में फूल कितने दिन में आता है?

आज के समय बाजार में आने वाली मूंग की उन्नतशील किस्मों में 30 से 35 दिन की फसल होने पर फाल/फूल आने शुरू हो जाते है, और 45 से 55 दिन की फसल होने पर पूर्ण फलिया भर जाती है |

मूंग की खेती कौन से महीने में करनी चाहिए?

भारत में जलवायु और फसल चक्र को अपनाते हुए किसान साल में दो बार बसंत /ग्रीष्म एवं खरीफ सीजन में मूंग की खेती करता है |

हाइब्रिड मूंग का बीज आज का रेट ?

आज के समय कृषि बाजार में अनेक बीज उत्पादक संस्था काम कर रही है, जो कई कीमतों पर अपने उन्नत बीज को बेचती है | खेतों में मूंग बुवाई के लिए बीज 100 रु / किलोग्राम से लेकर 500 रु / किलोग्राम के प्रमाणित बीज बिक रहे है | अधिक जानकारी के क्लिक करें – मूंग का बीज आज का रेट

यह भी पढ़े –

Leave a Comment

error: Alert: Content is protected !!