[ 322 गेहूं की जानकारी 2021 ] भरपूर पैदावार जानिए – 322 गेहूं का उत्पादन, वेरायटी, और बीज कीमत के बारे मे | Top – 322 gehu ki kheti

322 गेहूं की जानकारी | 322 गेहूं का उत्पादन | 322 gehu price | gehu 322 kism | gw 322 wheat variety | gw 322 गेहूं किस्म विशेषताओं | 322 Gehu ki kheti ki jankari hindi | उन्नतशील गेहूं बीज

पूरे भारत मे गेहूं की भरपूर पैदावार के लिए जानी जाती है, गेहूं बीज 322 | उच्च शोध और तकनीकी से विकशीत इस बीज को भारत के सभी राज्यों में बोया जा सकता है | इस बीज की पैदावार को देखकर पिछले कुछ सालों से मध्यप्रदेश मे इसकी सर्वोधिक बिजाई की जा रही है | 

322-गेहूं-की-जानकारी

322 गेहूं की जानकारी –

गेहूं उत्पादक क्षेत्रों मे काफी पोपुलर वैराइटी मानी जाती है, इसका दाना काफी चमकीला और आकार मे मोटा होता है | GW 322 गेहूं के बीज की सर्वोत्तम किस्म और कड़े मानकों पर परीक्षण की गई वैराइटी है | भारत मे यह सर्वोधिक मध्यप्रदेश और उतरप्रदेश मे बोई जाती है |

गेहूं मंडी बाजार की जानकारी- गेहूं का रेट today

322 गेहूं का उत्पादन /322 gehu ki paidawar ?

अच्छी देखरेख के साथ 60-65 क्विंटल / हेक्टेयर तक लिया जा सकता है | देशभर के आटा उद्धोगओ मे इसका ज्यादा मांग रहतीहै क्योंकि इसकी ब्रेड और रोटी/चपाती काफी स्वादिष्ट होती है |

गेहूं की बुआई का समय ?

जी.डब्ल्यू 322 गेहूं की बुवाई का सबसे उत्तम समय – रबी का मौसम मे समय पर बुवाई उचित मानी गई है, जो अक्टूबर के अंतिम सप्ताह से नवंबर के दूसरे सप्ताह तक कर सकते है |

पूरी फसल के पकने की अवधि -115-120 दिन |

बवाई कैसे करें ?

बिजाई के समय बीज की मात्रा 30-35 किलोग्राम प्रति एकड़ उपयुक्त होगी | सीड़ ड्रिल मशीन से कतार से कतार की दूरी 20 सेमी ओर 2-3 सें.मी. गहराई में बोना चाहिए, जिससे अंकुरण के लिए पर्याप्त नमी मिलती है |

ज्यादा पैदावार- गेहूं की खेती कब और कैसे करें

GW 322 गेहूं किस्म विशेषताओं ?

  • जेडब्ल्यू 322 अच्छी देखरेख से यह किस्म सबसे अधिक उपज दे सकती है |
  • इसमे प्रोटीन की मात्रा 11 प्रतिशत पाई जाती है, जिससे मार्केट मे मांग रहती है |
  • आटा उद्धोग सर्वोधिक इसी किस्म को काम मे लेते है |
  • इसको विकशीत संस्था का मानना है की ये अधिकतम 65 क्विंटल प्रति हेक्टेयर तक उत्पादन देती है |
  • उपज के बीज की चमकदार और मोटे आकार के होते है |
  • इसमें भूरा गेरूआ और करनाल वंट रोग लगने की संभवना रहती है |
  • सिंचाई मे केवल 3 से 4 पानी की आवश्यकता पड़ती है, जो इसके लिए पर्याप्त मानी जाती है |

गेहूं मे करनाल वंट रोग क्या है ?

फसल के पकने के समय ज्यादातर लगता है, जिसमे बाली मे दाना काला होकर सिकुड़ने लगता है | यदि यह रोग पूरी फसल मे फेल जाए तो उपज मे काफी कमी हो जाती है, तथा फसल का चारा भी पशुओ के खाने योग्य नहीं रहता है |

उन्नतशील 322 गेहूं बीज price ?

ऑनलाइन कीमतों के अनुसार यह वैराइटी का बीज 3000रु / क्विंटल के आस-पास के भावों मे आसानी से मिल जाता है | ऑनलाइन रेट देखे – 322 gehu price

ये भी पढ़े –

गेहूं की वैज्ञानिक खेती

[ Top ] गेहूं की प्रजातियाँ 2021-22

गेहूं 306 यानि शरबती गेहूं जानिए शरबती गेहूं भाव 2022

गेहूं की उन्नत किस्में – लोकवन, 322, 2967, 1544, 343

Leave a Comment