[ HI 1544 गेहूं का बीज 2024 ] जानें 1544 गेहूं की जानकारी, किस्म की पैदावार, बीज भाव | HI 1544 wheat variety

Last Updated on December 6, 2023 by krishisahara

वर्तमान समय में HI 1544 गेहूं का बीज बुवाई को लेकर काफी चर्चा में माना जा रहा है | इस गेहूं की स्वादिष्टता के आगे बाजार और खाध्य उत्पाद उद्धोग में अच्छी डिमांड है | गेहूं उत्पाद आधारित कंपनियों में इसका उपयोग किया जाता है, इस किस्म के गेहूं से पास्ता, मेदा, टोस्ट, बिस्किट, आदि प्रोडक्ट देश-विदेश में बेच रही है|

किसान भाइयों आपके लिए, इसकी पैदावार अच्छी और बाजार में डिमांड अच्छी होने के कारण खेती करना मुनाफे का सौदा बन सकती है| आइए जानते है – 1544 गेहूं का बीज की खेती को लेकर सम्पूर्ण जानकारी –

HI-1544-गेहूं-का-बीज

इस लेख में आपको एचआई 1544 गेहूं का बीज की जानकारी मिलेगी – 1544 गेहूं का भाव, 1544 गेहूं का एवरेज उत्पादन, गेहूं 1544 बोने का समय, 1544 गेहूं में कितने पानी देना चाहिए –

HI 1544 गेहूं का बीज जानकारी –

यह गेहूं अपनी विशेषताओ और डिमांड के नाम पर जाना जाता है | 1544 गेहूं का आकार अन्य गेहूं के दानों से बड़ा और चमकीला होता है | इस फसल के पौधे मजबूत, पत्तियां गहरे हरे रंग, उपज के दाने वजनदार होते है | HI 1544 गेहूं के पौधे की ऊंचाई अधिकतम 100 सेंटीमीटर तक की होती है |

गेहूं 1544 बोने का समय ?

प्रिय, किसान भाईयो यदि आप इस किस्म की बुआई सही समय पर करते है, तो आपको इस किस्म की पैदावार अच्छी दिखाई देगी | गेहूं 1544 को 30 अक्टूबर से नवंबर के मध्य का समय बुवाई के लिए सबसे उत्तम माना गया है | समय पर बुआई करने से गेहूं में रोग-कीट लगने की समस्या कम होती है |

1544 गेहूं का बीज विशेषता ?

  • इस किस्म को ज्यादातर इसकी पैदावार के लिए जाना जाता है, पैदावार की बात करें तो, 60 कुंटल प्रति एकड़ तक ली जा सकती है|
  • इस किस्म को केवल 3 से 4 सिंचाई की आवश्यकता होती है|
  • जल्दी तैयार होने वाली किस्मों में शामिल, जो 110 से 120 दिन में पककर तैयार हो जाती है |
  • इस वैरायटी का बीज रोग-कीट के प्रति उच्च सहनशील होने के कारण, रोग लगने की समस्या काफी कम होती है|
  • गेहूं की 1544 किस्म में प्रोटीन तथा ग्लूकोस युक्त होता है|
  • इस किस्म की बुआई पूरे भारत देश में की जा सकती है |

1544 गेहूं की उपज पैदावार क्या है ?

1544 गेहूं की खेती यदि आप उन्नत तरीकों से करते है, तो आपको यह किस्म अधिक पैदावार देगा | इस किस्म की औसत पैदावार 50 से 60 कुंटल प्रति एकड़ है | इस किस्म के गेहूं की मांग बाजार में अच्छी-खासी है, इसका बाजार और मंडी भाव भी काफी अच्छा रहता है|

देशभर 1544 गेहूं की सर्वोधिक बुवाई कहाँ होती है ?

इस किस्म की खेती पूरे देशभर में की जा सकती है | इस किस्म की बुआई सबसे ज्यादा मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, गुजरात आदि राज्यों में की जा रही है|

1544 गेहूं के बारे में सफल किसानों की राय ?

  • किसानों का मानना है, की इस किस्म के गेहूं का स्वाद अन्य किस्म से काफी अच्छा है | यही कारण है, की इस किस्म का उपयोग कंपनियों में किया जाता है|
  • किसानों को गेहूं 1544 किस्म के बीज आसानी से बाजार में मिल जाते है| इस किस्म के बीज को खरीदने के लिए उनको इधर-उधर भटकने की आवश्यकता नही होती है|
  • गेहूं 1544 की प्रति/एकड़ पैदावार काफी अच्छी होती है, और इस किस्म की मांग बाजार में अधिक है |
  • किसानों का मानना है, की 1544 गेहूं की किस्म की रोटी अन्य गेहूं की किस्म से अच्छी गुणवता वाली बनती है, इसके भोजन को पचने में भी कम समय लगता है|

1544 गेहूं का भाव क्या चल रहा है?

बाजार और मंडियों में 1544 गेहूं का भाव समय के अनुसार कम या ज्यादा होता रहता है| बुआई के समय इसका भाव उच्च रहता है| बात करें इसके वर्तमान में 1544 गेहूं का भाव औसत 2400 रुपए से लेकर 2900 रुपए के आस-पास बने हुए है|

1544 गेहूं में कितने पानी देना चाहिए ?

इस किस्म को केवल 3 से 4 सिंचाई की आवश्यकता होती है| जल्दी तैयार होने वाली किस्मों में शामिल, जो 110 से 120 दिन में पककर तैयार हो जाती है |

HI 1544 गेहूं कितने दिन में आता है/फसल अवधि?

1544 गेहूं इस किस्म को बुवाई से लेकर तैयार होने में 110 से 120 दिनों का समय लगता है, इस किस्म के पौधे की ऊंचाई कम से कम 100 सेंटीमीटर तक होती है|

यह भी जरूर पढ़ें…

दुसरो को भेजे - link share

Leave a Comment

error: Content is protected !!