[ कश्मीर का सेब उद्योग 2022 ] जानिए कश्मीरी सेब का बगीचा – कश्मीर में सेब का व्यापार और रेट क्या चल रहा है

Last Updated on October 27, 2022 by krishi sahara

बता दे की, भारत देश में सेब फल की पैदावार सर्वोधिक अकेले कश्मीर के क्षेत्रों मे होती है, जो कुल सेब उत्पादन मे अपना 80% योगदान देता है | हर साल कश्मीरी एप्पल की मांग/डिमांड अच्छी होने के कारण, पैदावार और बागानों का क्षेत्रफल बढ़ता जा रहा है | कश्मीर का सेब उद्धोग सालाना 12,000 करोड़ रुपए के लगभग रहता है, जो इस केंद्रशासित प्रदेश के लिए महत्वपूर्ण योगदान रहता है |

कश्मीर-का-सेब-उद्योग

आज आपको इस लेख में – कश्मीर का सेब उद्योग 2022 की जानकारी, कश्मीर में सेब की खेती के आकड़े क्या है? कश्मीरी एप्पल की भारत मे पहचान क्या है ? कश्मीर में सेब का व्यापार और रेट क्या चल रहा है? भारत में सर्वाधिक सेब का उत्पादन कहाँ होता है –

कश्मीरी एप्पल की भारत मे पहचान ?

शुरुआत से ही उतरी भारत के कश्मीरी घाटी के बागानों की सेब अपने स्वाद और क्वालिटी के कारण जानी जाती है | यहाँ की सेब का रंग शुरुआत/कच्चा में हल्का हरा होता है, और पकने के दिनों में पूरी तरह से लाल चमक की और हो जाता है|

महगें स्वादिष्ट इस फल में कई प्रकार के औषधीय गुण पाए जाते है | भारत मे मनुष्य के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सेब की एक अलग ही पहचान के साथ बेहतर स्वाद के लिए भी जाना जाता है|

कश्मीर का सेब उद्योग ?

कश्मीर में सेब का उद्धोग कई लाखों मे किसान, व्यापारियों की अर्थव्यवस्था की जीवन रेखा बना हुआ है, पूरे देश-विदेश निर्यात फैला हुआ है | देश के बड़े-बड़े उद्धोगपती कश्मीरी सेब उद्धोग को मजबूत और मुनाफेदार बनाने के लिए बड़े कोल्ड स्टोरेज/खरीदी केंद्र बनाकर किसानों से खरीदकर पूरे देशभर मे सप्लाई कर रहें है | कश्मीर का सेब उघोग सालाना 12,000 करोड़ रुपए के लगभग रहता है | रोजगार में अप्रत्त्यक्ष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों के 35 लाख लोगों की आजीविका ,सेब उघोग पर निर्भर/टिकी है|

कश्मीर में सेब की खेती के आकड़े ?

कश्मीर राज्य में करीब 10 लाख परिवार सेब की खेती पर निर्भर है| निर्यात की दृष्टि से देखें तो, कश्मीर में सेब उघोग 12.5 लाख डॉलर का रहा और यदि हम पिछले साल की बात करें तो 18 लाख मिट्रिक टन सेब का उत्पादन कश्मीर में हुआ है|

कश्मीर में सेब का व्यापार और रेट क्या चल रहा है ?

फल मंडी बाजार, इन दिनों सामान्य भावों में बना हुआ है, वर्तमान मे कश्मीरी सेब की नई ताजा फलों की अच्छी आवक देखि जा रही है | इस बार शरुआत से ही सेब का भाव कमजोरी के साथ खुला, जो इन दिनों 20 रुपए से लेकर अच्छी क्वालिटी में 60 रुपए प्रति किलो के बीच भावों मे बिक रहा है|

ईरानी सेब को लेकर कश्मीर सेब पर खतरा ?

पिच्छले कुछ सालों से ईरानी सेब का आयात होने से देश का सेव प्रभावित नजर आ रहा है | कश्मीरी सेब की अच्छी पैदावार के बावजूद भी कश्मीर सेब में परेशानी आ रही है, ईरान से आयातित सेब कश्मीर सेब की तुलना में बहुत ही सस्ता है | हाल ही में बांग्लादेश ने कश्मीरी सेब के आयात में टेक्स/कर प्रति किलो 40 से बढ़कर 55 टका करने से सेब की सप्लाई मे काफी लगाम लगेगी |

भारत की प्रमुख फल-फ्रूट्स मंडियों में विदेशी सेब की आवक भी होने से कश्मीरी सेब के दाम प्रति दिन गिर रहे है| इससे कश्मीरी सेब उत्पादन को दाम सही नही मिल पा रहा है|

कश्मीरी सेब उत्पादक किसानों की प्रमुख समस्याए ?

  • कश्मीरी सेब का दाम बाजार में कम मिलना |
  • कश्मीरी सेब सही समय पर बिक नही पा रहे है|
  • सेब बागानों से मंडियों तक पहुचाने तक होने खर्चों का अधिक होना |
  • सेब अधिक मात्रा में खराब हो रहे है|
  • लोकल बाजार में अच्छे व्यापारियों का चहल-पहल कम होना |
  • किसान सीधा सेब को अच्छे मार्केट मे पहुचाने के लिए, ट्रक/ट्रांसपोर्ट माल ले जाने के लिए मनमानी कीमतों वसूल कर रहे है|

भारत में सर्वाधिक सेब का उत्पादन कहाँ होता है?

भारत में सर्वाधिक सेब का उत्पादन कश्मीर राज्य/प्रांत में होता है, इसके अलावा हिमाचल प्रदेश, उतराखंड जैसें प्रदेशों मे की जाती है |

कश्मीर में कौन-कौनसी फसल उगाई जाती है?

कश्मीर की प्रमुख फसलों मे सर्वोधिक सेब, संतरा, केसर, बादाम, काजू, अखरोट, चीकू, स्टोबेरी, चेरी जैसी कई महंगी और बागवानी फसलें उगाई जाती है |

कश्मीरी सेब के बगीचे की प्रसिद्धि?

कश्मीर के सेब की मिठास देश के हर हिस्से/कोने में मसूर है, यहाँ के बागान टूरिस्ट के लिए भी आकर्षण का केंद्र बना हुआ है |

भारत में सेब की खेती को बढ़ावा/प्रोत्साहन?

सरकार के लगातार प्रयासों से सेब की खेती को उत्तर-पूर्वी भारत में बढ़ावा देने का प्रयास किया जा रहा है, यहां की ठंड जलवायु और उपयुक्त मिट्टी में होने वाले सेब के किस्म के लिए उपयुक्त मानी जाती है|
कश्मीरी सेब को लेकर ताजा समाचार 2023
कृषि आधुनिकीकरण के बाद देश में सेब की खेती का दायरा भी बड़ा है, जिसके कारण देश के पूर्वी क्षेत्रों में सेब की खेती में बदलाव लाने की तैयारी की जा रही है|

यह भी जरूर पढ़ें…

Leave a Comment

error: Alert: Content is protected !!