[ रुद्राक्ष का पेड़ 2023-24 ] जानिए रुद्राक्ष की खेती कैसे करें, रुद्राक्ष की price, उपयोग, फायदे – rudraksh tree in hindi

Last Updated on December 13, 2022 by krishi sahara

हमारी भारतीय संस्कृति में रुद्राक्ष का पेड़, प्राचीन काल से ही संस्कृत और सभ्यता का अभिन्न अंग माना गया है, हिन्दू धर्म में रुद्राक्ष को भगवान शिव शंकर का प्रतीक मानते है| शायद आपने भी साधु संतो के गले में रुद्राक्ष की माला देखी होगी और कई लोग रुद्राक्ष की माला से जाप भी करते है| क्या, आपको जानकारी है की रुद्राक्ष कहा से आता है, और हमे कैसे प्राप्त होता है|

आपकी जानकारी के लिए बता दे की, भारत में रुद्राक्ष की खेती ज्यादा लोकप्रिय नही है, लेकिन फिर भी भारतीय बाजारों में रुद्राक्ष की डिमांड काफी रहती है|

रुद्राक्ष-का-पेड़

लेख में आपको रुद्राक्ष से संबंधित कई आवश्यक जानकारी मिलेगी, जैसे की – रुद्राक्ष का पेड़ ओर फल पवित्र क्यों है? रुद्राक्ष का पेड़ क्या है? रुद्राक्ष कैसे बनता है? रुद्राक्ष का पौधा कैसे लगाया जाता है? रुद्राक्ष का बीज कैसा होता है? रुद्राक्ष का पौधा कब लगाना चाहिए

Contents hide

रुद्राक्ष का पेड़ क्या है, रुद्राक्ष कैसे बनता है?

रुद्राक्ष के पेड़ को इलियोकार्पस गेनिट्रस के नाम से भी जाना जाता है, रुद्राक्ष के पेड़ की ऊंचाई लगभग 50 फिट से 200 फिट तक की होती है| इसका पेड़ काफी तेजी से ग्रोथ करता है, परंतु फल लगने में थोड़ा समय लगता है, लगभग तीन से चार वर्षो में आपको फल दिखाई देंगे| यदि हम रुद्राक्ष की प्रजाति की बात करें तो, हमारे देश में रुद्राक्ष की 300 से ज्यादा प्रजातियां है|

भारत में रुद्राक्ष की खेती ओर इसका पेड़ कहाँ पाया जाता है?

हमारे भारत देश में रुद्राक्ष की खेती सबसे ज्यादा हिमाचल प्रदेश राज्य में होती है और रुद्राक्ष की खेती बंगाल, असम, हरिद्वार, उतराखंड, गड़वाल, अरुणाचल प्रदेश, मध्यप्रदेश और देहरादून में रुद्राक्ष की खेती होती है| यदि हम दक्षिण भारत की बात करें तो, रुद्राक्ष की खेती दक्षिण भारत में नीलगिरी, कर्नाटक, मैसूर, रामेश्वरम, यमुनोत्री, गंगोत्री आदि क्षेत्रों में इसकी खेती होती है तथा यहाँ इसके पेड़ पाए जाते है|

रुद्राक्ष का पेड़ कहां मिलेगा ?

हमारे भारत देश में रुद्राक्ष की खेती बहुत ही कम होती है इसके चलते, भारत में रुद्राक्ष का बड़ी मात्रा में विदेशों से आयात किया जाता है| इसमें मलेशिया, नेपाल, इंडोनेशिया में रुद्राक्ष का उत्पादन अधिक मात्रा में होता है| रुद्राक्ष का पेड़ यदि आप भी खरीदना चाहते है तो, रुद्राक्ष आपको औषधीय नर्सरी, कृषि संस्थानों, पौधे तैयार आदि में आसानी से मिल जाएगा या फिर आप इसको ऑनलाइन माध्यम से भी खरीद सकते है|

रुद्राक्ष का पौधा कब लगाना चाहिए?

यदि आप रुद्राक्ष का पौधा लगाना चाहते है, तो आपको इसका पौधा ठंड के मौसम में लगाना चाहिए| रुद्राक्ष का पौधा ठंड की जलवायु में अच्छे से बढ़ते है| यदि आपके क्षेत्र का तापमान 35 डिग्री से अधिक हो तो इसके पौधे के आस-पास ऐसी व्यवस्था करें, जिससे की धूप सीधी पौधे पर न पड़े|

रुद्राक्ष का पेड़ कितने साल में फल देता है?

बता दे, की रुद्राक्ष का पेड़ काफी जल्दी ग्रो करेगा, परंतु फल आने में 3 से 4 वर्ष लगते है| रुद्राक्ष का पौधा साल में कई बार फल देता है, शुरुआत में फल नीले रंग के दिखाई देते है| नीले रंग के फल के अंदर रुद्राक्ष होता है, जिसे सुखाया जाता है|

रुद्राक्ष का पौधा कैसे उगाये?

  • रुद्राक्ष के पौधे को लगाने के लिए आपको एयर लेयरिंग विधि का उपयोग करना चाहिए, इसमें पुराने पौधे की शाखाओं को काटकर उसमे मोस को लगाए|
  • इसके बाद आपको पॉलिथीन से ढक देना है, फिर अपको दोनो और से रस्सी से बांध देना है|
  • अब इसमें 40 दिनों के अंदर जड़े आना शुरू हो जाएगी|
  • फिर अपको इन जड़ों को काटकर नए बैग में लगा देना है|
  • इस विधि से पौधा जल्दी तैयार हो जाता है |

असली रुद्राक्ष की पहचान कैसे की जाती है?

रुद्राक्ष एक नीले रंग के आउटर खोल के साथ एक पौधे से उगता है, रुद्राक्ष का रंग भूरा, लाल, पीला, सफेद और काला होता है, यही इसकी मुख्य पहचान भी है| नेपाल में मिलने वाले रुद्राक्ष 0.79 से 1 इंच तक के होते है और इंडोनेशिया में मिलने वाले रुद्राक्ष एक इंच से कम होते|

रुद्राक्ष का पौधा कैसे लगाया जाता है ?

रुद्राक्ष की खेती करने के लिए ड्रेनेज वाली मिट्टी की उपयुक्त होती है, मिट्टी में खाद के साथ नाइट्रोजन तथा अन्य आवश्यक पोषण तत्व भी भरपूर मात्रा में डालना होता है| जितना ज्यादा मिट्टी में खाद होगा उतनी जल्दी रुद्राक्ष का पौधा ग्रोथ करेगा| यदि आप इसका पौधा तैयार नही कर पा रहे तो आप यह पौधा नजदीकी औषधीय नर्सरी से भी ला सकते है, इस प्रकार अच्छे से रुद्राक्ष का पौधा लगाया जा सकता है|

क्या रुद्राक्ष का पेड़ घर में लगाया जा सकता है?

जी, हा रुद्राक्ष का पेड़ आप अपने घर पर भी लगा सकते है| यदि आप भी अपने घर पर रुद्राक्ष का पेड़ लगाना चाहते है तो, बीज से उगाने कि जगह बेहतर होगा की आप इसका पौधा नर्सरी से खरीद ले और फिर घर आकर इसकी अच्छे से बुआई कर दे| क्योंकि नर्सरी के पौधे को नर्सरी में बहुत ही अच्छे से तैयार किए जाते है|

रुद्राक्ष का पेड़ ओर फल पवित्र क्यों है?

रुद्राक्ष का फल भगवान शिव को अति प्रिय माना जाता है, भारतीय संस्कृति में रुद्राक्ष को प्राचीन काल से ही पवित्र माना गया है, जिसके कारण से कई साधु भी रुद्राक्ष की माला पहनते है| और साथ ही इसका उपयोग औषधीय के रूप में भी किया जाता है|

रुद्राक्ष की देश-विदेश में मांग और उपयोग क्या है ?

भारत में बड़ी मात्रा में इंडोनेशिया और नेपाल से रुद्राक्ष का आयात होता है, जिसका कारोबार अरबों में होता है| रुद्राक्ष की मांग भारतीय बाजारों में भी अधिक है इस मांग के कारण से हम विदेश से रुद्राक्ष मंगवाते है|

रुद्राक्ष में कई औषधीय गुण पाए जाते है | रुद्राक्ष की माला पहनी जाए, तो इससे रक्त का दाब नियंत्रित रहता है, कई समस्याओं से राहत प्रदान करता है|

रुद्राक्ष इतना महंगा क्यों है, रुद्राक्ष का पेड़ Online, Price?

धार्मिक दृष्टि से रुद्राक्ष की मांग भारतीय बाजार में अधिक है, क्योंकि इसका उपयोग औषधीय के रूप में भी सर्वाधिक किया जाता है |

यदि आप भी इसका पेड़ खरीदना चाहते है, तो यह पौधा या नर्सरी से भी खरीद सकते है| यदि रुद्राक्ष पेड़ की कीमत की बात करें तो, 200 से लेकर 1000 रुपये प्रति पौधों के हिसाब मे मिल जाता है |

रुद्राक्ष का बीज कैसा होता है?

रुद्राक्ष का बीज दिखने में भूरा, लाल, पीला, सफेद और काला रंग का होता है, परंतु रुद्राक्ष का फल नीले रंग का होता है, यह भगवान शिव का प्रिय माना जाता है|

भारत में रुद्राक्ष की खेती कहाँ-कहाँ होती है?

भारत में रुद्राक्ष की खेती सर्वाधिक हिमाचल प्रदेश, बंगाल, असम, हरिद्वार, उतराखंड, गड़वाल, अरुणाचल प्रदेश, मध्यप्रदेश और देहरादून में की जाती है|

यह भी जरूर पढ़ें…

Leave a Comment

error: Alert: Content is protected !!