[ आलू का भंडारण कैसे करें 2022 ] जानिए सर्वश्रेष्ठ तरीकों से आलू का भंडारण कैसे किया जाता है – how to store potatoes in hindi

Last Updated on August 26, 2022 by [email protected]

आलू का भंडारण कैसे करें | आलू का भंडारण | आलू का भंडारण कैसे किया जाता है

बता दे कि देश भर में केरल और तमिलनाडु को छोड़कर लगभग पूरे देश में आलू की खेती भरपूर की जाती है | मुख्यतः उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, बिहार, गुजरात, पंजाब, मध्यप्रदेश, असम राज्यों में अधिक क्षेत्र में खेती की जाती है, ऐसे में आलू का भंडारण सही से होना बहुत जरूरी है, जिससे आलू का बहुत लंबे समय तक रोका जा सकता है और बाजार की मांग के अनुसार धीरे-धीरे बाजार में आलू को भेजा जा सकता है और भाव में भी मजबूती बनी रहती है |

आलू-का-भंडारण-कैसे-करें

फरवरी-मार्च के दिनों में देश के ज्यादातर राज्यों की आलू की फसल की खुदाई शुरू हो जाती है और आगे गर्मियों का मौसम शुरू हो जाता है, इसलिए ऐसे में आलू का सही से भंडारण करना बहुत जरूरी हो जाता है | नई फसल मंडियों में भरपूर आवक देखी जाती है, किसानों के पास भंडारण सुविधा ना होने के कारण आलू को जल्दी से जल्दी और अच्छे भाव में बेचने के लिए फसल को निकालने के लिए मजबूर रहते हैं ऐसे में वह अपनी फसल के अच्छे दाम नहीं ले पाते हैं | व्यापारी भी अधिक मात्रा में आलू का भंडार न कर पाने के कारण किसानों से सस्ते भाव में आलू खरीदने के लिए मजबूर होते हैं 

आलू में 80% से अधिक पानी की मात्रा होती है, इसलिए आलू की फसल का भंडारण करना थोड़ा चुनौती हो जाता है, लेकिन आज के समय ऐसी कई तकनीकी मौजूद है जिनके सहारे और आलू को कुशलतापूर्वक पूरे साल भर तक सही से भंडारण करके ताजा रखा जा सकता है |

आलू भंडारण पर सरकार का प्रयास ?

देश के राज्य की सरकारें अपने आलू उत्पादक किसानों को  आलू भंडार ग्रह बनाने के लिए कई प्रकार की सब्सिडी अनुदान स्कीम लाती है जिनमें किसान अपने खेत /घर के स्तर पर अपने खेत से ली गई आलू की फसल पैदावार का भंडारण कर सकते हैं | बिना खराब नुकसान / फसल खराब है और नुकसान से बचा सकते हैं, बाजार में अच्छी कीमत पर आलू की फसल को भेज सकते हैं |

आलू का भंडारण कैसे करें ?

  • आलू की फसल को खुदाई क बाद लगभग एक सप्ताह तक खुले स्थान पर रखना चाहिय जिससे आलू पर दूसरी पक्की परत/ छिलका चढ़ जाए |
  • कोल्ड स्टोरेज का वातावरण अंधेरा ओर हवादार स्थान का चयन करना चाहिए |
  • आलू को रखने के लिए जुट का बोरे, प्लास्टिक / लकड़ी की टोकरी, हवादार बक्से कंटेनर आदि का प्रयोग कर सकते है, लेकिन ध्यान रखे सभी माध्यमों मे हवा पास होती रहे |
  • आलू को घर पर भंडारण करना थोड़ा चुनोती पूर्ण होता है, कोल्ड स्टोरेज उत्तम माना जाता है |
  • कोल्ड स्टोरेज मे आकार के अनुसार आलू को ब्लॉक मे बाटना चाहिए जिससे साफ-सफाई ओर हर महीने खरं ओर सही की छटनी की जा सके |

आलू के भंडारण के फायदे  ?

आलू की फसल को खुदाई के बाद ऐसे तरीकों से फसल को 4 से 6 महीने रोका जा सकता है | इस समय के बीच मे आलू के अच्छे भाव आने पर बाजार में निकाल सकते हैं जिससे अच्छी आय कमा सकते हैं |

अच्छी देखरेख करके अच्छी क्वालिटी का बीज बुवाई के लिए किस्मे तैयार कर सकते है |

सामान्य तरीकों मे आलू की फसल 10 से 40% तक खराब हो जाती है, शीत भंडारण मे उचित देखरेख करके पूरी फसल को ताजा रखा जा सकता है |

आलू के भंडार में करने में प्रमुख सावधानियां ?

  • स्टोरेज के तरीकों में आलू का भंडार करने के लिए ऊपर छाया युक्त स्थान देना, छपर लगाना, आलू को ढेर में रखना, गड्ढों में पुआल या घास से लगना, छिद्र युक्त पीवीसी पाइप बीच-बीच में लगाना |
  • आलू का भंडारण करते समय आलू को पहले थोड़ा धूप में सिखा दिया जाए जिससे उसका मुख्य चिल्का बन जाए |
  • भंडारण करते समय ध्यान रखें कि कोई भी आलू में कटा हुआ या रोग ग्रस्त आलू को बाहर कर दें |
  • आलू का उच्च क्वालिटी के बीज विकसित करने के लिए आलू का शीतग्रह में भंडारण करना बहुत जरूरी माना जाता है |

आलू को लंबे समय तक कैसे स्टोर करें ?

आज के समय किसान के लिए आलू को ज्यादा समय तक भंडारण करना कई कारणों के चलते जरूरी हो जाता है, नई उपज को भाव नहीं मिलना, कोल्ड स्टोरेज का फूल होना, अच्छे भावों का इंतजार करना आड़ को लेकर किसान ऊपर दिए गए तरीकों से आलू को लंबे समय तक स्टोर करके रख सकता है |

आलू के भंडारण के लिए सबसे अच्छा कंटेनर कौन सा है?

सावधानी के तौर पर किसान को पूर्णबंद कंटेनर या स्थान का चुनाव नहीं करें | आलू के भंडारण मे सबसे अच्छा कंटेनर की बात करें तो हार्ड पेपर स्पॉटदार, बांस से बने टोकरे, प्लास्टिक के जालीदार कंटेनर, लकड़ी बक्से के कंटेनर, लोह वायर से बना जालीदार कंटेनर जैसे कई बाजार मे आज के समय उपलब्ध है |

यह भी जरूर पढ़े …

राजस्थान खेत तलाई / तलाब योजना

मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना 2022

Leave a Comment

error: Alert: Content is protected !!