[ एक राष्ट्र एक उर्वरक योजना 2022 ] जानिए One Nation One Fertilizer कैसें करेगी किसानों की परेशानियाँ दूर – सभी खाद उर्वरक को लेकर बड़ा अपडेट

Last Updated on August 31, 2022 by [email protected]

वन नेशन वन फर्टिलाइजर योजना | एक राष्ट्र एक उर्वरक योजना | फर्टिलाइजर सब्सिडी स्कीम को अब प्रधानमंत्री भारतीय जनउर्वरक परियोजना

देश आज के समय खाद-उर्वरकों को लेकर किसानों ओर सरकार को कई प्रकार की समस्याओ ओर परेशानियों का सामना करना पड़ता है | खेती मे काम आने वाले खाद-उर्वरकों की बढ़ती कालाबाजारी ओर कंपनियों की मनमानी, समय पर खाद की किल्लत को दूर करेगी – “एक राष्ट्र एक उर्वरक योजना” | देश की की लगभग 175 उर्वरक निर्माता कम्पनीयों को बेचना पड़ेगा एक ही ब्रांड का खाद-उर्वरक | आइए जानते है वन नेशन वन फर्टिलाइजर योजना से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी जो किसानों को पहुंचाएगी कई प्रकार से लाभ –

प्रधानमंत्री-भारतीय-जनउर्वरक-परियोजना

एक राष्ट्र एक उर्वरक अवधारणा के आधार पर भारत सरकार की लंबे समय से चली आ रही फर्टिलाइजर सब्सिडी स्कीम को अब प्रधानमंत्री भारतीय जनउर्वरक परियोजना के नाम से जाना जाएगा | किसानों के लिए खुशखबरी 2 अक्टूबर 2022 से देश में ‘वन नेशन वन फर्टिलाइजर के नियमों से होगी खाद-उर्वरकों की होगी बिक्री –

एक राष्ट्र एक उर्वरक योजना क्या है ?

हाल ही मे उर्वरक मंत्रालय द्वारा देश की सभी खाद निर्माता कंपनियों के लिए एक आदेश जारी किया है, जिसमें कृषक उर्वरक सब्सिडी योजना के तहत अपने खाद-उर्वरकों को लेकर कई बड़े बदलाव किए गए हैं, इन बदलावों से किसानों, सरकार और भारतीय कृषि बाजार में बढ़ती कालाबाजारी को रोकने के लिए एक महत्वपूर्ण कदम साबित होगा |

इस फर्टिलाइजर सब्सिडी स्कीम को अब प्रधानमंत्री भारतीय जन उर्वरक परियोजना (पीएमबीजेपी) के नाम से जाना जाएगा, इसके सभी नियम और शर्तें इस साल के अंत तक 2 अक्टूबर 2022 से लागू होगा |

वन नेशन वन फर्टिलाइजर योजना के नए अपडेट ?

देश के किसानों को अब यूरिया, डीएपी, एनपीके, एमओपी, पोटाश, और लिक्विड खाद उर्वरक जो भारतीय सब्सिडी पर मिलते हैं, उन सभी खादों को केवल “भारत” ब्रांड के नाम से ही मिलेगा, कंपनियों को अपनी मनमानी से पैकिंग और बोरे पर प्रिंटिंग नहीं करवा सकते हैं, उर्वरकों पर नई प्रिंटिंग का डिजाइन सभी कंपनियों को भेज दिया गया है |

वन नेशन वन फर्टिलाइजर योजना  के तहत खाद उर्वरक की बोरी पर 75% हिस्से पर भारतीय ब्रांड का नाम लोगों के साथ प्रधानमंत्री भारतीय जन उर्वरक परियोजना लिखा रहेगा और बाकी बचे एक तिहाई 25% पर कंपनी का नाम कंपनी का लोगो/बेंच मार्क उसकी संबंधित जानकारी रहेगी |

सरकार के इस आदेश में उर्वरक कंपनियां 15 सितंबर के बाद पुराने डिजाइन के बोरे नहीं खरीद सकेंगे |

वन-नेशन-वन-फर्टिलाइजर-योजना

और पुरानी प्रिंटिंग प्रिंटिंग और डिजाइन के बोरे को समाप्त करने के लिए 12 दिसंबर तक का समय दिया गया है | 12 दिसंबर बाद बाजार में पुरानी पेंटिंग का कोई भी खाद उर्वरक का बोरा देखने को नहीं मिलेगा |

अक्टूबर 2022 के बाद से “प्रधानमंत्री भारतीय जन उर्वरक परियोजना”( PMBJP) नाम से बिकेंगे सभी प्रकार के खाद-उर्वरक |

एक देश-एक फर्टिलाइजर योजना के लाभ ?

  • सभी प्रकार के खाद और उर्वरकों को पर भारत सरकार की प्रयोजना की प्रिंटिंग होने के कारण काला बाजार और किसानों के बीच होने वाली कालाबाजारी को दूर होने में मदद मिलेगी |
  • अलग-अलग कंपनियों के खादों में होने वाली कीमतों के अंतर में कमी होगी, खाद निर्माता कंपनियों की मनमानी पर भी रोक लगेगी |
  • किसान को समय पर खाद व उर्वरक मिलेगा, और उनकी मांग के समय होने वाली खादों की किल्लत में कमी आएगी |
एक-राष्ट्र-एक-उर्वरक-योजना

One Nation One Fertiliser In Hindi ?

बता दे की देशभर में प्रधानमंत्री भारतीय जन उर्वरक परियोजना’ के तहत 2 अक्टूबर 2022 से वन नेशन वन फर्टिलाइजर लागू किया जा रहा है | इससे भारत में एक ही ब्रांड “भारत” के नाम से सारे उर्वरक बेचे जाएंगे |

प्रधानमंत्री भारतीय जन उर्वरक परियोजना क्या है ?

हाल ही मे किसानों की महत्वपूर्ण आवश्यकता ओर परेशानी को दूर करने वाली योजना मे बदलाव करते हुए, सरकार द्वारा उर्वरक पर दी जाने वाली सब्सिडी योजना का नाम बदलकर प्रधानमंत्री भारतीय जन उर्वरक परियोजना (Pradhanmantri Bhartiya Jan Urvarak Pariyojana) कर दिया गया है |

यह भी जरूर पढ़े…

Leave a Comment

error: Alert: Content is protected !!