[ कोकोपीट क्या है 2023 ] जानिए कोकोपीट खाद कैसे बनाया जाता है, कोकोपीट की कीमत, कहां से खरीदें, कोकोपीट के फायदे – Cocopeat For Plants

पौधे का अच्छा विकास हो, इसके लिए बाजार से कई प्रकार की खाद-उर्वरक का प्रयोग करते आ रहे है| नर्सरी में पौधे का विकास तथा ग्रोथ नही हो पाता है, तो जागरूक किसान को कोकोपीट खाद का प्रयोग करना चाहिए| आज हम बात करेंगे, केमिकल मुक्त और सबसे सस्ती पेड़-पौधों के लिए सबसे उत्तम खाद के बारे में – कोकोपीट क्या है, कोकोपीट खाद का उपयोग नर्सरी पौध, सब्जी फसलें, किचन गार्डन, गमले, खेत और बगीचे में कर सकते है|

कोकोपीट-क्या-है

प्रिय किसान भाईयो, यह लेख आपके लिए बहुत ही खास होने वाला है, क्योंकि इस लेख के माध्यम से आप कोकोपीट की विस्तृत जानकारी जानोगे – कोकोपीट खाद का उपयोग कैसे, कब और कितना करना है –

कोकोपीट क्या है?

कोकोपीट मुख्यतः नारियल फल से ही निकाला जाता है| नारियल के फल के अंदर वाले नट को अधिकतर काम में लेकर बचे हुए भाग को हम फेक देते है, लेकिन पके हुए नारियल के बाहरी रेशेदार छिलके में कई तरह के आवश्यक पोषण तत्व पाए जाते है, जिसे हम आसानी से फेक देते है| यह नारियल के छिलके सभी फसलों के बीज, और छोटे पौधे के विकास में काफी मदद करते है| नारियल के छिलके को बारीक कण में बदल देते है| कोकोपीट एक प्राकृतिक फाइबर पाउडर है जिसे कोकोपीट नाम से जाना जाता है –

कोकोपीट का रेट क्या है?

कोकोपीट आप अपने घर पर भी बना सकते है या फिर आप कोकोपीट को बाजार से भी खरीद सकते है| यदि हम कोकोपीट की कीमत बाजार या ऑनलाइन में बात करें तो, इसका भाव 50 से लेकर 100 रुपए प्रति किलो है| आपके क्षेत्र के अनुसार इसके भाव में थोड़ा परिवर्तन आ सकता है|

कोकोपीट क्या है

कोकोपीट कहां से खरीदें?

कोकोपीट खाद खरीदने के लिए आप नजदीकी खाद-बीज कृषि भंडार, कृषि स्टोर या अमेज़ोंन, फ्लिपकार्ड आदि से ऑनलाइन ऑर्डर भी कर सकते है| इस खाद को आप घरेलू तरीके से भी बना सकते है, परंतु इसके लिए आपको थोड़ा समय आवश्य लगेगा|

कोकोपीट का उपयोग कैसे करें?

कोकोपीट का उपयोग खाद के रूप में किया जाता है, इसका उपयोग हाइड्रोपोनिक्स और मिट्टी रहित गार्डनिंग, नर्सरी में ज्यादातर में इसका उपयोग किया जाता है| बीज या पौधा लगाने से पहले, कोकोपीट को अच्छी तरह से पानी में भिगोकर ही इसका उपयोग करना चाहिए| कोकोपीट खाद कोई केमिकल फर्टिलेजर नही है, यह एक जैविक खाद के रूप में काम करता है| कोकोपीट खाद में जैविक खाद और मिट्टी को भी मिक्स करके बीज/पौधा के लिए अच्छी मिट्टी के रूप में काम में ले सकते है|

पौधों के लिए कोकोपीट के फायदें?

  • कोकोपीट का उपयोग करने से पौधे का विकास जल्दी हो जाता है|
  • कोकोपीट में पानी को सोखने की क्षमता अधिक रहती है, जिससे की पौधा कभी सूखता नही है|
  • कोकोपीट का उपयोग करने से मिट्टी में नमी बनी रहती है|
  • यह बीज रोपाई के समय या पौधे लगाने के लिए काफी अच्छा होता है|
  • इसके उपयोग होने के बाद फसल या पौधे में किसी प्रकार का फंगस नही लगता है|
  • कोकोपीट का उपयोग करने से पौधे की जड़ अधिक फैलती है, जिसके कारण पौधा मजबूत बन जाता है|
  • कोकोपीट में कई पोषण तत्व पाए जाते है जैसे की – पोटेशियम, फास्फोरस, कॉपर, जिंक, नाइट्रोजन आदि होते है, जो पौधे की विकास में मदद करते है|
कोकोपीट क्या है

कोकोपीट क्या चीज से बनता है?

कोकोपीट नारियल के बहारी सतह के रेशेदार छिलके को बारीक पीसकर, कोकोपीट पाउडर बनाया जाता है, जिसका उपयोग किसान अपनी फसल में ऑर्गेनिक खाद के रूप में करता है| इसका उपयोग आप अपने गमले या फिर बगीचे में भी कर सकते है|

कोकोपीट में बीज कैसे लगाएं?

इसके लिए आपको सबसे पहले कोकोपीट को नम बनाना होगा, इसके लिए आपको इसमें पानी डाल देना है| नर्सरी स्थान या प्रो सीड्स ट्रे में उपजाऊ मिट्टी की जगह इसका प्रयोग करके, बीज लगा कर हल्की सिंचाई कर देना है| बीज लगाने के बाद आपको सिडलिंग को नियमित रूप से समय-समय पर पानी देते रहना है|

कोकोपीट बनाने की मशीन –

यदि आप अधिक मात्रा में कोकोपीट पाउडर या इसका व्यवसाय करना चाहते है, तो बाजार में इसकी मशीने भी मिलती है| कच्चे माल/नारियल छिलके की उपलब्धता में किसान भाई कोकोपीट पाउडर बनने के लिए मशीन खरीद सकते है| इस मशीन की कीमत भारतीय बाजार में 50 हजार से 2 लाख रुपए के आस-पास है, आपको अपनी सुविधा के अनुसार मशीन खरीद लेना है|

कोकोपीट कितने रुपए किलो मिलता है?

यदि हम कोकोपीट की कीमत पर बात करें तो, यह लगभग 50 से 100 रुपए प्रति किलो आसानी से कृषि बाजार या ऑनलाइन में मिल जाता है|

कोकोपीट और मिट्टी अनुपात कितना रखें?

नर्सरी में फल-सब्जियों की पौध के लिए कोको पीट और मिट्टी आपको 1:2 के अनुपात में रखना उत्तम माना गया है|

यह भी जरूर पढ़ें…

दुसरो को भेजे - link share

Leave a Comment

error: Content is protected !!