[ मुख्यमंत्री खेत संरक्षण योजना 2021 ] हिमाचल प्रदेश – Mukhymantri khet Sanrakshan Yojana

Himachal Pradesh mukhymantri khet Sanrakshan Yojana | हिमाचल किसान सब्सिडी | Himachal Pradesh Kisan Yojana | मुख्यमंत्री खेत संरक्षण योजना 2021 | मुख्यमंत्री खेत संरक्षण योजना

हिमाचल प्रदेश कृषि विभाग के माध्यम से चलाई जा रही मुख्यमंत्री खेत संरक्षण योजना 2019-20 का विस्तार कर पुनः आरंभ कर दी गई है | मुख्यमंत्री खेत संरक्षण योजना को सभी खंडों /ब्लॉक्स में उपलब्ध करवाया गया है | हिमाचल प्रदेश के किसानों को इस योजना का लाभ सब्सिडी के माध्यम से दिया जाएगा और यह सब्सिडी की राशि 80% से लेकर 85% तक की आर्थिक सहायता के रूप में दी जाएगी |

मुख्यमंत्री-खेत-संरक्षण-योजना

जगली जानवरों, बंदरों और असहाय पशुओ से फसलों को होने वाले नुकशान से बचाने के लिए किसान दिखा रहे है, mukhymantri khet Sanrakshan Yojana मे रुचि | 

इस योजना का लाभ लेने के लिए अपने नजदीकी कृषि कार्यलय से औपचारिक रूप से आवेदन कर पूरा करना होगा | इस योजना के तहत किसानों को जंगली जानवरों, बंदर, सूअर और अन्य प्रकार के वन्य पशुओं द्वारा की गई अनावश्यक हानी की समस्या से मुक्ति मिलेगी |

कृषि विज्ञान केंद्र क्या है KVK किसानों को देता है ये सुविधाये 2020-21

योजना के अंतर्गत किसान को मात्र 20% राशि ही वहन करनी पड़ेगी और शेष राशि हिमाचल कृषि विभाग प्रदान करेगा | इस योजना से किसान को तारबंदी और सोलर सिस्टम से तारों में विद्धुत झटके उत्पन्न से वन्य पशु तथा मवेशियों को भगाने में सहायता मिलेगी |

मुख्यमंत्री-खेत-संरक्षण-योजना
तारबंदी सब्सिडी योजना 2021-22

खेत के चारों और बाढ़ के रूप में तारों से उत्पन्न झटके से किसी भी प्रकार की मनुष्य हानी अथवा नुकसान नहीं होगा | सरकार ने इस योजना के अंतर्गत लगाई जाने वाली सिस्टम में कोई खराबी आए तो कंपनी के कर्मचारी सिस्टम की मरमत करेंगे | प्रदेश के किसान इस योजना के प्रति अपने जरूरी दस्तावेजों के साथ आवेदन कर लाभ उठा सकते हैं |

सोनालिका ने लांच किया इलेक्ट्रिक ट्रैक्टर बैटरी से चलने वाला ट्रैक्टर 2021

मुख्यमंत्री खेत संरक्षण योजना 2021 का उधेशय ?

  • राज्य के किसान पिछले कुछ वर्षों से खेती को छोड़ रहे थे तथा फसल नुकशान से किसानो की लागत भी बढ़ रही थी |
  • इस योजना का उद्देश्य राज्य के किसानों और बागवानी करने वाले किसानों दोनों के लिए लाभदायक सिद्ध करना है |
  • बिना सुरक्षा की वजह से प्रदेश के किसान खेती मे अच्छा लाभ और उपज नहीं ले पा रहे थे |
  • योजना के माध्यम से हिमाचल प्रदेश की कृषि को मजबूत और कृषि आधारित रोजगार को बढ़ाना है |

देश का पहला किसान आंदोलन, बिजोलिया किसान आंदोलन- 44 साल तक चला

मुख्यमंत्री खेत संरक्षण योजना के प्रकार ?

हिमाचल कृषि विभाग ने इस योजना को अलग-अलग कंपोनेट/भाँगों मे बाटा है- 

  • व्यक्तिगत किसान मे 80 % तक छूट
  • सामूहिक किसान आवेदन पर – 2 से अधिक किसान मे 85% तक का अनुदान |

राष्ट्रीय कृषि बाजार पोर्टल 2021 | E-NAM portal in Hindi

mukhymantri khet Sanrakshan Yojana मे कैसे करे आवेदन ?

योजना का लाभ लेने के लिए किसान को अपने नजदीकी कृषि विभाग मे जाना होगा | कृषि विभाग से किसान को योजना का फार्म लेकर जरूरी जानकारी और दस्तावेजों को लगकर आवेदन करना होगा | अधिक जानकारी – लिंक

मुख्यमंत्री-खेत-संरक्षण-योजना
तारबंदी सब्सिडी योजना 2021-22

मुख्यमंत्री खेत संरक्षण योजना के वित्तीय आकड़े ?

खेत संरक्षण योजना के तहत वर्ष 2019-20 मे 23 करोड़ 54 लाख रुपये की राशि दी जा चुकी है | हिमाचल प्रदेश के पाँच जिलों मे कांगड़ा, मंडी, जमंबा, हमीरपुर और उन्ना मे अब तक 1159 किसानो ने आवेदन कर लाभ लिया है | और इसके तहत 584 हेक्टेयर को शामिल किया गया है |

जोरम फूड पार्क देगा 30 हजार किसानों एव युवाओ को रोजगार

किसानो को mukhymantri khet Sanrakshan Yojana की जानकारी मिली तो अपने कृषि विभाग मे संपर्क किया और आज 2016 से 2021 के आंकड़ों मे खेती का रकबा बड़ा है | आज राज्य के काफी किसान जो दशको से खेती छोड़ चुके थे वो सोलर बड़बंदी कर खेती मे जुट चुके है |

खेत संरक्षण योजना से हिमाचल प्रदेश का 2 लाख 92 हजार 247 मीटर दूरी का फेस किया है | और साथ ही 2019-20 मे प्रदेश के लगभग 1200 किसानो को लाभ मिला है |

ये भी पढ़े –

राष्ट्रीय बागवानी मिशन क्या है 2021, जानिए- राष्ट्रीय बागवानी बोर्ड सब्सिडी योजनाओं के बारे मे

लैवेंडर की खेती कैसे की जाती है 2021 – lavender farming in hindi

Leave a Comment