सोयाबीन की उन्नत खेती जानिए उत्पादन और उन्नत किस्मे 2021

सोयाबीन की उन्नत खेती | सोयाबीन की खेती कैसे करें | सोयाबीन की उन्नत किस्म | सबसे बड़ा उत्पादक राज्य | सोयाबीन की कीमत | Soyabean Ki Kheti

बात करेंगे भारत में सोयाबीन की उन्नत खेती की, सोयाबीन के बारे में तो सुना ही होगा सोयाबीन का तेल, जिसके पकवान बनाते हैं तो जानते हैं इसके बारे में कैसे होती है इसकी फसल | सोयाबीन एक प्रकार की खरीफ की फसल है जो मुख्यत है बारिश पर निर्भर होती हैं | यह एक प्रकार की दलहनी फसल है | 

सोयाबीन-की-उन्नत-खेती
सोयाबीन की उन्नत खेती

सोयाबीन की उन्नत खेती की जानकारी

भारत में भी यहां खेती बड़े पैमाने पर खरीफ फसल के रूप में की जाती है | सोयाबीन की फसल आमतौर पर 90- 100 दिन मे तैयार हो जाती है | यह एक प्रकार की विदेशी फसल है जिसके सर्वाधिक उत्पादक राज्य अमेरिका, अर्जेंटीना, ब्राजील, चाइना, है | भारत के किसानों ने भी इस फसल को अपनाया इस की उन्नत किस्मों तथा तकनीकों से इसका विस्तार किया | भारत कृषि क्षेत्र सोयाबीन का 2016 में विश्व में चोंथा सबसे बड़ा उत्पादक देश बन गया | 

सोयाबीन की खेती सबसे ज्यादा कहां होती है ?

भारत में सर्वाधिक सोयाबीन मध्यप्रदेश में होता है इसका 65% अकेला इसी राज्य से उत्पादित होता है 

भारत में सर्वाधिक सोयाबीन का उत्पादन क्षेत्र मध्य भारत है जो भारत के कुल सोयाबीन उत्पादक का लगभग 80% उत्पादित करता है | मध्य भारत में मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात, राजस्थान, प्रमुख उत्पादक राज्य हैं | भारत के इन राज्यों मे सोयाबीन का सबसे ज्यादा पैदावार होती है |

सोयाबीन-की-उन्नत-खेती

सोयाबीन की उन्नत खेती कैसे करें soyabean ki kheti kese kre ?

सोयाबीन की बुवाई का समय soyabean ki buwai

इस फसल का बुआई का समय सामान्यतः मार्च से 15 मई के बीच किसान के लिए उपयुक्त है | अगेती किस्मो का उपयोग कर किसान जल्दी फसल भी ले सकता है |

सोयाबीन की किस्में / soybean variety ?

  • शिलाजीत 
  • PK-472
  • सोयाबिन प्लांट
  • अंकुर
  • ब्रेग 
  • DOC स्पोर्ट सोयाबीन
  • पंत सोयाबीन 692
  • PK-262 
  • PK-327 
  • PS- 247
  • more…

सोयाबीन की खेती में कौन सा खाद डालें

जहा तक हो सके किसान को खेती से पहले मिट्टी की जाँच करके आवश्यकता अनुसार कृषि विशेषज्ञ निर्देशीत खाद ही डाले |

इस प्रकार की तिलहन फसल की खेती करते समय किसान को खेत तैयारी के समय हो सके तो जैविक खाद का प्रयोग करे |

Soyabean Ki Kheti रासायनिक खाद का प्रयोग मे मध्य प्रदेश के कृषि विभाग की साइट पर देखे – यह क्लिक करे

सोयाबीन-की-उन्नत-खेती
सोयाबीन की उन्नत खेती

ये भी पढ़े –

सोयाबीन के बीज या सोयाबीन तेल के लाभ ?

इस सोयाबीन में 40% प्रोटीन होती है ऐसी कोई भी दलहनी फसल नहीं है जिसमें 40% से अधिक प्रोटीन हो केवल सोयाबीन में ही इतनी अधिक मात्रा में प्रोटीन होता है | प्रोटीन के साथ-साथ इसमें 20%  खाद्य तेल की मात्रा भी होती है | विश्व में वर्तमान समय में इस फसल को केवल खाद्य तेलों के उत्पादन के लिए ही खेती करते हैं | भारत में तिलहन फसलों में सोयाबीन का प्रथम स्थान है 

सोयाबीन की कीमत ?

किमत की बात करे तो बाजार मे आप जानते ही है फसलों को कीमतों मे परिवर्तन होता रहता है | यह सोयाबीन क्या रेट/ कीमत सितंबर 2021 के भाव है जो सोयाबीन की वेरायटी के हिसाब से है –

किस्मे / वेराइटी रु प्रति / क्विंटल
सोयाबीन 3900 -3980
सोयाबिन प्लांट 3900 -4100
DOC स्पोर्ट सोयाबीन 3600 – 3700
सोयाबीन क्या रेट/ कीमत

सोयाबीन की फसल संबधित आकड़े ?

विश्व स्तर पर सोयाबीन की फसल 113 मिलियन हेक्टर पर की जाती है और इसका उत्पादन 284 बिलियन टन है और उत्पादकता जो है औसतन 25 क्विंटल प्रति हेक्टर है |

भारत में Soyabean Ki Kheti 12 मिलियन हेक्टेयर के रूप में हो रही है, एव उत्पादन स्तर 13 मिलीयन टन है | और लगातार भारत में सोयाबीन उत्पादन क्षेत्र बढ़ रहा है और भारत में इसकी उत्पादकता 11 क्विंटल /हेक्टर के हिसाब से है | भारत के पन्नगर को सोयाबीन का जन्म स्थान माना जाता है यहां से 2016 तक 19 प्रकार की सोयाबीन किस्मो का जन्म हो चुका है यानी उन्नत किस्म के बीज विकसित किए जा चुके हैं |

सोयाबीन-की-उन्नत-खेती
सोयाबीन की उन्नत खेती

सोयाबीन का उपयोग क्षेत्र ?

सोयाबीन एक बहु उपयोगी फसल है इसको उपयोग दाल, सब्जी, तेल, आदि के रूप में उपयोग करते हैं | यह तिलहन के रूप में उपयोग होती है सोयाबीन का तेल निकालने के बाद  इसकी खली जो बचती है उसके विभिन्न प्रकार के प्रोडक्ट या उद्योगों में भेजते हैं | जैसे – नमकीन, सोयाबीन का दूध(सोया मिल्क) सोया-पनीर, सोयाप्रोटीन आदि विभिन्न प्रकार के प्रोडक्ट बनाने के लिए बाजार में बहुत सारी कंपनियां उतरी हुई है |

सामान्यतः सोयाबीन में प्रोटीन बहुत ज्यादा होती है इसलिए बाजार में प्रोडक्ट बनाने में इसका बहुत उपयोग किया जाता है | प्रोटीन को विभिन्न प्रक्रियाओं से इसमें प्रोटीन की मात्रा बढ़ा दी जाती है | प्रोसेसिंग प्रक्रियाए करके प्रोटीन की मात्रा 95% तक बढ़ा दी जाती है |

ये भी पढ़े –

तो आशा करते है की आपको इस लेख से सोयाबीन की उन्नत खेती के बारे मे काफी जानकारी मिली होगी |

Leave a Comment