अनार की खेती कैसे करे 2021-22 जानिए तरीका और खेती की जानकारी

अनार की खेती कैसे करे यह सवाल हर किसान के मन में होता है | अनार एक प्रकार की व्यवसायिक फल है | अनार की खेती कम लागत से अधिक मुनाफा देने वाली फसल है | अनार शुष्क जलवाऊ की खेती के कारण भारत के शुष्क राज्यों मे इसकी खेती का रुझान ज्यादा है | हाल ही के नवीनतम आकड़ों के हिसाब से भारत मे 2.09 लाख हेक्टेयर पर अनार की खेती की जाती है | जिससे किसान अनार की खेती करके मुनाफा कमा सकते हैं आइए जानते हैं अनार की खेती की पूरी जानकारी

अनार-की-खेती-कैसे-करे

अनार का वानस्पतिक नाम-

 बात करे अनार का वनस्पतिक नाम- पयुनिका ग्रेनेटम(Punica Granatum) है |

अनार की उन्नत किस्में/ वैरायटी ?

भारत में अनार की लगभग 25 वेराइटी मजबूत मौजूद है | किसान अपने क्षेत्र की जलवायु के हिसाब से अनार की किस्मों का चुनाव करें जिससे अच्छा उत्पादन होगा | प्रमुख रूप से भारत में पांच प्रकार के अनार की वैरायटी में प्रसिद्ध है जो अनार की खेती में क्रांति लाने में कामगार साबित हुई है | अनार की प्रमुख उन्नत किस्में  निम्न है-

  • ज्योति
  • अलंदी या वडकी
  • ढोलका
  • कंधारी
  • काबुल
  • मस्कटी रेड
  • पेपर शेल्ड
  • स्पेनिश रूबी
  • गणेश (जीबी I), जी 137, पी 23, पी 23,
  • मृदुला
  • बदला
  • भगवा
  • भगवा गणेश 
  • आरकाटा
  • रूबी
  • उरक्ता

अनार की खेती कैसे करे How to cultivate pomegranate?

उपयुक्त जलवायु और मिट्टी ?

अनार की खेती के लिए अर्ध शुष्क जलवायु उपयुक्त रहती है | फलों के विकास और फलों की वृद्धि के लिए समय गर्म और शुष्क जलवायु की अधिक आवश्यकता होती है | फल बनते समय तापमान 38 डिग्री सेंटीग्रेड होना चाहिए –

ये भी पढे –

मिट्टी अर्थात भूमि की बात करें तो अनार की खेती लगभग सभी तरह की भूमि पर की जा सकती है किंतु अच्छी उपज और उत्पादन के लिए रेतीले और दोमट मिट्टी अति उत्तम रहती है | अनार की खेती के लिए अच्छी जल निकासी वाली भूमि और जलभराव ना होना चाहिए |

अनार-की-खेती-कैसे-करे

अनार के पौधे कहां से लाएं anaar ke paudhe

किसान अनार की बागवानी करने से पहले अनार के बारे में अच्छी तरह से जानकारी रखनी चाहिए | क्योंकि यह 30 से 40 वर्ष तक का भूमि में निवेश होता है | इसलिए अनार की रोपाई से लेकर बाजार तक पूरा ज्ञान आवश्यक है | बात करें अनार के पौधे के बारे में तो पौधे नजदीकी कृषि विभाग की नर्सरी से एक उन्नत किस्म के पौधे प्राप्त कर सकते हैं अनार के पौधे की कीमत लगभग 15 से 20 रुपये / पौधा के बीच में होती है |

किसान खुद बीज लगाकर बाद में कलम विधि द्वारा पौधे को ग्राफिट करके अनार की पौध तैयार कर सकता है |

अनार की खेती के लिए खेत कैसे तैयार करें

  • किसान को इसकी खेती के लिए खेत को अच्छे प्रकार से खेत की जुताई कर तैयार कर लेना चाहिए |
  • खेत अच्छी तरह से तैयार होने के बाद अनार के पौधों के लिए 5 * 5 मीटर (परंपरागत खेती) तथा 5 * 3 मीटर (सघन खेती) की दूरी पर पौधों के लिए गड्ढों को तैयार कर सकते हैं |
  • गड्ढों का आकार 2 फिट गहरा 2 फीट चौड़ा आकार में खोदकर 15 से 20 दिन के लिए खुला छोड़ दें |
  • खुला छोड़ने से गड्ढों की आंतरिक सतह की मिट्टी अच्छी तरह पक जाए |
  • अब किसान को हर गड्ढों में 4 से 5 किलो कंपोस्ट खाद नीचे सतह की मिट्टी में मिला कर गड्ढों को भर दे |
  • अंत मे किसान को अनार के पौधे लगाकर ऊपर की सामान्य मिट्टी के भरकर पौधों मे सिंचाई कर दे |
अनार-की-खेती-कैसे-करे

अनार की रोपाई का समय ?

बाग या अनार का पौधा लगाने का उचित समय फरवरी-मार्च तथा अगस्त का महीना सबसे अच्छा रहता है | 

अनार की सिंचाई ?

  • खेती में सिंचाई की बात करें तो 10 से 15 दिन के अंतराल में करनी चाहिए |
  • वर्षा ऋतु में आवश्यकता होने पर ही पौधों में सिंचाई करें |
  • अनार के पौधों में सिंचाई के लिए बूंद-बूंद सिंचाई यानी ड्रिप सिंचाई उपयुक्त रहती है |

अनार के पौधों की कटाई-छटाई –

बात करें इन की निराई-गुड़ाई, देखभाल समय-समय पर करते रहना चाहिए | अनार के पौधों की भूमि की सतह से दो से तीन मुख्य तने ही रखनी चाहिए बाकी की टहनियों को काट देना चाहिए | अनार के पौधों की कटाई-छटाई से पौधों की गुणवत्ता में वृद्धि होती है तथा उत्पादन में भी वृद्धि अधिक होती है |

कीट प्रबंधन / रोकथाम

  • फलों तथा पौधों को खेतों से तथा रोगों से बचाने के लिए पौधों में जैविक कीटनाशकों का प्रयोग करें |
  • जैविक कीटनाशकों में नीम तथा धतूरे से बने तरल कीटनाशक का छिड़काव करे |
  • छिड़काव 15 से 20 दिनों के अंतराल में तीन से चार बार करें |
  • अनार की खेती में रासायनिक कीटनाशक का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए हो सके तो कम करें |
  • रासायनिक कीटनाशकों का उपयोग किसान को कृषि विशेषज्ञ की पूछताछ या देखरेख में करना चाहिए |
  • रसायन कीटनाशक जिसमें मुख्य है मेलाथियान तथा फैरामन ट्रेप रसायन का प्रयोग करें |

अनार उत्पादन प्रमुख राज्य ?

भारत में अनार के उत्पादन के हिसाब से मुख्य उत्पादन राज्यों की बात करें तो महाराष्ट्र, राजस्थान,पंजाब, हरियाणा, कर्नाटक, तमिलनाडु, गुजरात, आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश, मुख्य रूप से भारी मात्रा में अनार का उत्पादन करते हैं |

ये भी पढे- आंवला की खेती से होगा अच्छा उत्पादन और कमाई

अनार के भाव /अनार की खेती से कमाई ?

भारतीय बाजारों में अनार के भावों की बात करें तो अनार का वर्तमान बाजार भाव ₹50 से लेकर ₹80 के बीच है | तथा किसानों को उनकी फसल के अनुसार मंडियों में भी अच्छे भाव मिल जाते हैं इसके जो औसतन 40 से ₹60 के बीच होते हैं | (नोट:- किसी भी फल-फ्रूट के भाव मौसम,बाजार, मांग पर निर्भर करता है )

तो आपने इस लेख मे अनार की खेती कैसे करे, अनार के बारे मे जाना आशा है की आपको जानकारी अच्छी लगी होंगी |

अनार-की-खेती-कैसे-करे

अनार की खेती संबधित आकड़े ?

भारत मे इसकी मांग अधिक है और इसकी मांग का लगभग 70% देश मे उत्पादन हो जाता है |

देश मे अनार की खेती मे 2.09 लाख हेक्टेयर क्षेत्र कवर करता है |

देश का अनार देश के बाजारों के अलावा विदेशों मे भी नियत होता है जिसमे प्रमुख देश – कुवेत, ईरान,बहरीन, सऊदी अरब, निद्रलैंड इत्यादि |

अनार की बागवानी के बारे मे अधिक जानकारी और खेती, बाजार के लिए – http://nhb.gov.in/hindi/default.aspx

ये भी पढे –

Leave a Comment