[ काजू का पेड़ के बारे मे 2021 ] kaju ka paudha / ped kaisa hota hai- जानिए काजू की खेती से लेकर उत्पादन, काजू टुकड़ी भाव

काजू का पेड़ / काजू का पौधा | kaju ka paudha / ped kaisa hota hai | काजू का उत्पादन कहां होता है | काजू सबसे ज्यादा कहाँ होता है | काजू टुकड़ी भाव 2021 | काजू का पेड़ कितने दिन में फल देता है | काजू का पेड़ कैसे उगाएं

देश मे काजू को अच्छी और रिहायसी खुराक के रूप मे जाना जाता है | काजू मे कई गुणकारी खनिज-तत्व पाए जाते है जो शरीर के लिए अनेक फरार से लाभदायक है | सालभर काजू बढ़ती मांग के कारण खेती, उत्पादन से लेकर रेट, भाव, व्यापार आदि सक्रिय रहता है | आइए जानते जानते है काजू के पेड़ और भारत मे फैले इसके पूरे रंग-रूप के बारे मे-

काजू का पौधा एक उष्ण कटिबन्धीय पौधा है जो गर्म एवं उष्ण जलवायु में फलता-फूलता और अच्छी पैदावार देता है |

काजू-का-पेड़

काजू का पेड़ कैसा होता है ?

उष्णकटिबंधीय जलवायु मे काजू का पेड़ एक बहुत हीं तीव्रता से बढ़ता है | इसका पेड़ 8-10 साल वाले नीम के पेड़ के उचाई-आकार मे मोटे पत्तों मे होता है | kaju ka ped लगभग 13 से लेकर 14 मीटर तक की उचाई मे होता है | लेकिन देश मे काजू के उत्पादन हेतु काजू की प्रजातियों के पेड़ 6 मीटर (20 फीट) तक बढ़ते है, जो की उच्च पैदावार के साथ काजू के बीज और सूखे फल देते है |

काजू की खेती का समय- काजू का पेड़ कब लगाए जाते है? 

यदि किसान पौधा तैयार करता है तो- पौधा तैयार करने का उपयुक्त समय मई-जुलाई का महीना होता है | और बागान या खेत मे लगाने के लिए बरसाती समय जून-जुलाई से लेकर सितंबर तक कर सकता है क्योंकि बरसात मे इस पौधे की जड़े भूमि मे अच्छे से पकड़कर-फैलने लगती है |

ज्यादातर नर्सरी मे तैयार होने वाले काजू के पौधों को साफ्ट वुड ग्राफ्टिंग विधि से तैयार किया जाता है |

काजू का पेड़ कितने दिन में फल देता है ?

ग्राफ्टिंग विधि से तैयार होने वाला पौधा लगाने के 2-3 साल बाद मे ही फल देने लग जाता है |

काजू कितने प्रकार के होते है- ग्रेडिंग कैसे की जाती है ?

देश मे काजू की 40 से अधिक वैराइटिया पाई जाती है, जिनका अच्छा उत्पादन लेकर बाजार मे लाया जाता है | काजू-फल को इनके छिलके से अलग करना बहुत कठिन होता है, फल को छिलके से अलग करने मे काजू का फल टूट या कट हो जाते है, जिनको अलग-अलग ग्रेड मे बाटकर बाजार मे बेचने के लिए उतारा जाता है |

काजू का बाजार मे भाव क्वालिटी और ग्रेडिंग /किस्मे के अनुसार तय होते है |

काजू-का-पेड़
काजू का पेड़ / काजू का पौधा

काजू का पेड़ कैसे उगाएं ?

काजू का पेड़ कैसे लगाए या उगाए इसके लिए आप नजदीकी पौधशाला या सरकारी नर्सरी से संपर्क के वहाँ खरीद सकते है | यदि किसान काजू का पौधा घर पर तैयार करना चाहता है तो इसके लिए अच्छे बीज किस्म का चुनाव कर दिसंबर- जनवरी मे पौध तैयार कर सकते है |

नर्सरी या घर पर तैयार करने वाले पौधे को अच्छी देखरेख के साथ कम से कम 5-6 महीने और अधिकतम 1 साल तक पौधे की देखरेख की आवश्यकता होती है |

ये भी पढ़े –

काला गेहू की खेती

प्राकृतिक खेती क्या है- सरकारी प्रयास और परिणाम

हींग की खेती कैसे करें जानिए- Hing ki kheti kahan hoti hai

काजू का उपयोग कहाँ- कहाँ होता है? 

काजू आमतौर पर भोजन व मिठाई, औषधीय रूप, दवाईया, तेल आदि के रूप में किया जाता है| ज्यादातर काजू का उपयोग मधुमेह, उच्च कोलेस्ट्रॉल, हृदय रोग, पेट और जठरांत्र संबंधी बीमारियों , त्वचा की समस्याओं आदि के लिए किया जाता है |

काजू का उत्पादन कहाँ होता है? 

काजू का उत्पादन प्रमुख रूप से भारत के दक्षिणी क्षेत्र- केरल, आंध्रप्रदेश, उड़ीसा, तमिलनाडु, आंध्रप्रदेश, पांडुचेरी जैसे राज्यो मे बहुत क्षेत्र मे की जाती है | भारत में हर साल करीब 7.25 लाख मेट्रिक टन काजू का उत्पादन और 10.27 लाख हेक्टेयर भूमि पर काजू खेती/बगान पर होती है |

काजू का बीज कहां मिलता है ?

काजू का बीज किसी अच्छे सरकारी संस्था या विश्वशनीय नर्सरी से लेना चाहिए, जिससे पेड़ और काजू की वैराइटी अच्छी हो | ‘कैश्यू एप्पल’ से काजू बीज निकलते हैं, इनसे नया पौधा तैयार होता है |

काजू-का-पेड़

भारत में काजू की खेती कहां होती है ?

सूखे फलों/ ड्राई फ्रूट्स मे काजू को शीर्ष स्थान मिला हुआ है | काजू की व्यवसायिक एवं बड़े पैमाने पर खेती केरल, महाराष्ट्र, गोवा, आंध्र प्रदेश, उड़ीसा एवं पं. बंगाल, कर्नाटक, तामिलनाडु जैसे राज्यो में की जाती है |

देश मे ये राज्य काजू की खेती के लिए जाने जाते है क्योंकि यहाँ की जलवाऊ और मिट्टी इसकी खेती के लिए अनुकूल होती है |

भारत में काजू का रेट क्या है – काजू का भाव 2021 ?

सभी के मन मे होता है की काजू का मंडी/थोक और बाजार भाव क्या है तो – काजू क्वालिटी के अनुसार 60,000 से 1,40,000₹ प्रति क्विंटल यानि 600 से 1400 रुपये प्रति किलोग्राम के हिसाब मे बिकता है |
जबकि थोक के भावों की बात करें तो दक्षिणी राज्यो की बड़ी मंडियों मे 25,000 से 80,000 रुपये / क्विंटल यानि 250 से 800(अच्छी क्वालिटी) रुपये किलोग्राम के भावों मे व्यापार होता है |
– काजू टुकड़ी भाव 2021 – काजू टुकड़ी इन दिनों 450 से 630 रुपये / किलोग्राम के भावों मे बिकती नजर आ रही है |

काजू को लेकर आज की ताजा खबर

काजू महंगा क्यों मिलता है? 

इस वर्ष उत्पादन ओर आयात-निर्यात के चलते काजू के दाम मे तेजी देखने को मिल रही है | घरेलू बाजार में काजू की मांग/ खपत बढ़ने के चलते भी कीमतों को बढ़ने का मोका मिल जाता है |

कम उत्पादन और गुणकारी, शरीर-सेहत के लिए अच्छे, शाही शोक के रूप मे ड्राई फ्रूट के रूप मे महंगे मिलते हैं |

गुजरात मे कपास का भाव

काजू से जुड़ी 5 रोचक बाते –

– देश मे काजू की 40 से अधिक प्रकार की किस्मो/ वैराइटियों का उत्पादन होता है |
– ‘कैश्यू एप्पल’ से काजू बीज निकलते हैं, इनसे नया पौधा तैयार कर सकते है |
– काजू के कच्चे फलों में Tenin Or CNSL नामक का रसायन होता है जिसका त्वचा पर लगने पर इंफेक्शन होकर पूरे शरीर पर फेल जाता है | 
– काजू के पेड़ की राल (पेड़ से निकलने वाला तरल चिपचिपा पदार्थ) को औद्योगिक उत्पादों जैसे ब्रेक लाइनर और रंग-पेंट में किया जाता है |
– कच्चे काजू का रंग- हरा होता और पकने की अवस्था में फल लाल और नट/पूछ सफेद रंग का हो जाता है |

ये भी पढ़े –

लेमन ग्रास की खेती कैसे करे

गेंदा फूल की खेती कैसे करे

शक्कर / चीनी कैसे बनती है 2022

Leave a Comment