[ सरसों की अच्छी पैदावार कैसे करें 2023 ] यहाँ जानें सरसों की लहराती फसल के राज – High Yield Of Mustard

Last Updated on November 12, 2022 by krishi sahara

रबी फसलों में सरसों तिलहन फसल भी अपने अच्छे मुनाफेदार फसलों में मानी जाती है | किसान भाई खेत तैयारी के समय से ही सरसों की अच्छी पैदावार लेने के लिए कई खेती के उन्नत तरीकों की खोज और अपनाता है |

यदि आप भी सरसों की अच्छी पैदावार लेना चाहते है तो आप बिलकुल ही सही जगह आए हो, यहा आपको सरसों की अच्छी पैदावार से संबधित सम्पूर्ण जानकारी देखने को मिलेगी – जैसे कि, अधिक उपज हेतु सरसों बीज की बुवाई? सरसों में कौन कौन सी खाद डालें? सरसों की फसल को नुकसान से बचाव –

सरसों-की-अच्छी-पैदावार

सरसों की अच्छी पैदावार के लिए क्या करना चाहिए – 10 टिप्स ?

किसान भाइयों नीचे दिए गए तौर-तरीके आपकी फसल को बिना नुकसान पहुचाए, एक बेहतर उत्पादन की राह दिख सकते है, जागरूक किसान इन तरीकों से सरसों की सामान्य खेती की बजाय सरसों की अच्छी पैदावार ले सकता है –

  1. खेत की मिट्टी की जाँच कराकर बीज का चयन और खेत मे उर्वरकों की पूर्ति करनी चाहिए |
  2. पुरानी फसल के अवशेषों को हटाकर, सरसों फसल की बुवाई से 1 महिने पहले खेत को 2 बार अच्छी जुताई कर लेनी है |
  3. अंतिम जुताई के समय जैविक खाद/ सड़ी गोबर की खाद डालनी चाहिए |
  4. हर वर्ष आपको अपने खेत में फसल चक्र अपनाना चाहिए|
  5. इसके बाद आपको, मिट्टी, जलवायु, सिंचाई पानी के अनुसार अच्छे से बीज का चयन कर लेना है|
  6. बुआई के समय आपके खेत में नमी होनी चाहिए, यदि आपके खेत में नमी न हो तो आपको एक बार सिंचाई कर लेनी है और 4 से 5 दिनों के बाद जब नमी अच्छी हो तब आपको सरसो की बुआई कर देनी है|
  7. बीजों की बुआई में उपचारित बीजों का ही प्रयोग करना चाहिए |
  8. सरसो के पौधे 10 से 15 दिनों में पूरी तरह से उग जाएंगे आपको सरसो की फसल में 15 दिनों के अंतराल में निंदाई- गुड़ाई या खरपतवार कर लेनी है|
  9. बुआई के 1 माह बाद आपको प्रथम सिंचाई कर लेनी है |
  10. सप्ताह मे एक बार सरसों की फसल में रोग-कीट की अच्छी देखरेख करनी चाहिए |
  11. हर 25 से 30 दिन के अंतराल में कुल 3 सिंचाई कर सकते है |
  12. अधिक सर्दी/पाले से बचाने के लिए सहनशील उन्नत बीज का चयन, या दवाइयों का छिड़काव कर सकते है |
  13. यदि सरसों के पौधे में 75% फलियां पीली पड़ जाए तो फिर आपको सरसों की फसल की कटाई शुरू कर देना है|

अधिक उपज हेतु सरसों बीज की बुवाई कैसे करें ?

सरसों बीज की बुवाई का सबसे उत्तम समय किस्म के अनुसार 15 सितंबर से 30 अक्टूबर के मध्य बुआई कर लेनी है | सरसो में अंकुरण अच्छा हो इसके लिए आपको बुआई समय पर कर लेनी है, बुआई के समय दिन का तापमान 33 डिग्री से कम होना चाहिए|

बुआई के समय आपके खेत में अच्छी नमी होना चाहिए अच्छी, पैदावार के लिए बीज दर अच्छा होना चाहिए आपको 5 से 6 किलो सरसो बीज प्रति हेक्टेयर बीज दर पर बुआई करनी है| सरसो की फसल के लिए आपको 30 सेंटीमीटर की दूरी रखते हुए कतारों को तैयार कर लेना है और इसके बाद आपको 10 सेंटीमीटर की दूरी रखते हुए सरसो के बीजों को लगना चाहिए| बुवाई के लिए सीड्स ड्रिल मशीन का उपयोग कर सकते है |

सरसों की अच्छी पैदावार

सरसों की फसल में सिंचाई कितनी ओर कैसें करें ?

यदि आप सही समय पर सिंचाई, खाद और खरपतवार नियंत्रण सरसो की फसल में करते है तो आपको इसके पैदावार में अच्छे प्रभाव दिखाई देंगे | सरसों में पहला पानी कब देना चाहिए – इसके लिए आप बीज बुवाई के 30 से 40 दिनों के अंतराल पर पहली सिंचाई कर सकते है | दूसरी सिंचाई फूल आने से पहले और फिर तीसरी सिंचाई फलियां में दाने भरने की अवस्था में कर लेना चाहिए| यदि सरसों की फसल पर दो बार अच्छी बरसात हो जाए तो केवल दो सिंचाई ही काफी मानी जाती है |

सरसों में कौन कौन सी खाद डाली जाती है?

सरसो की फसल में यदि आप ऑर्गेनिक खाद / गोबर खाद का उपयोग करते है तो आपको पैदावार में बढ़ोतरी दिखाई देगी और साथ ही इस खाद का उपयोग करने से मिट्टी का उपजाऊपन लंबे समय तक चलता है| आपको अपने खेत में 10 टन सड़ी गोबर प्रति हेक्टेयर के हिसाब से डाल देनी है और रासायनिक खाद के रूप में आप 30 किलो फॉस्फोरस, 300 किलो जिप्सम, 80 किलो नाइट्रोजन और 60 किलो गंधक प्रति हेक्टेयर की दर से डाल सकते है|

सरसों की अच्छी पैदावार

सरसों की फसल को नुकसान से कैसे बचाएं ?

  • खेती के उन्नत तरीकों, अच्छी बुवाई, अच्छे बीज, सिंचाई, निराई-गुड़ाई, रोग-कीट नियंत्रण से सरसों की खेती की फसल बनाया जा सकता है |
  • सरसो की फसल में यदि कोई रोग लग जाता है, तो आपको समय रहते हुए उस को दवाइयों के मध्यम से खत्म कर देना है|
  • सरसो की बुआई समय पर करना चाहिए, इससे कीट का प्रकोप कम होता है|
  • यदि आपके खेत में कीटो का आक्रमण हो तो आपको ऑक्सिडिमेटान मिथाइल 25ई.सी या फिर डाईमथोएट 30 ई.सी की 250या 350 ml मात्रा को 400 लीटर पानी में मिलाकर प्रति एकड़ किट फसलों पर छिड़काव कर देना है|
  • अधिक बारिश के समय खेतों से पानी निकालने के समुचित प्रयास करने चाहिए |
  • अच्छी जलनिकास वाली भूमि मे खेती करना चाहिए |
  • अधिक सर्दी या पाले से बचाने के लिए बीज चुनाव के समय सहनशील किस्मों की बुवाई करनी चाहिए |

सरसों की फसल कितने दिन में तैयार होती है?

सरसो की फसल को तैयार होने में कम से कम 120 दिन और देरी से पकने वाली किस्मो को 140 दिनों तक का समय लगता है| आज के समय बाजार में सरसों की कई टॉप उन्नत किस्म के बीज बाजार में उपलब्ध है, आपकी जलवायु के अनुसार बीजों को बुआई होती है |

सरसों में कौन सी दवाई का छिड़काव करें?

सरसों की फसल में कीटो का अधिक प्रकोप हो जाने पर 250 ml मोनोक्रोटोफास या फिर 500 ml एंडोसल्फन 35 ईसी या 200 ml डाइक्लोरवास 76 ई सी को 250 लीटर पानी में मिलाकर प्रति एकड़ की दर सें छिड़काव कर सकते है |

यह भी जरूर पढ़ें…

Leave a Comment

error: Alert: Content is protected !!