[ पौधा ग्राफ्टिंग क्या है 2022 ] ग्राफ्टिंग कैसे की जाती है – जानिए ग्राफ्टिंग के प्रकार, लगाने की विधियाँ, फायदे, कौन से महीने में की जाती है | plant grafting in hindi

Last Updated on July 26, 2022 by [email protected]

ग्राफ्टिंग कितने प्रकार के होते हैं | ग्राफ्टिंग कौन से महीने में की जाती है | ग्राफ्टिंग क्या है | कलम लगाने की विधियाँ pdf | ग्राफ्टिंग के फायदे | ग्राफ्टिंग कैसे की जाती है

देश में कृषि का विश्वास नई तकनीको पर बढ़ता जा रहा है | पौधो में ग्राफ्टिंग तकनीक वह तकनीक है, जिसमें तैयार पौधे पर दूसरी कटी हुई डाली/तना विशेष तरह से चिपकाया जाता है | कलम विधि से तैयार पौधे जल्दी विकसित और फल-फूल देने लग जाते है, इसलिए बागवानी में ग्राफ्टिंग विधि से तैयार पौधो की खूब मांग होती है |

आज हम जानेगे कलम बांधना (grafting) या ग्राफ्टिंग विधि क्या है, ग्राफ्टिंग किसे कहते हैं तथा इसके फायदे क्या हैं, ग्राफ्टिंग कैसे की जाती है संपूर्ण जानकारी –

ग्राफ्टिंग-क्या-है

पौधा ग्राफ्टिंग क्या है ?

ग्राफ्टिंग एक ऐसी प्रक्रिया है, जिसमें जड़ युक्त पौधे की शाखा को दूसरी कटी हुई शाखा को आपस में विशेष कटिंग के साथ जोड़ा जाता है | दोनों तनो में संचरण शुरू होने के बाद एक ही पौधे के रूप में विकसित होने लगते हैं, इस नए पौधे में दोनों पौधों की विशेषताएँ होती हैं | इस तकनीक से एक नया पौधा तैयार होता है, जो मूल पौधे की तुलना में ज्यादा उत्पादन करता है |

ग्राफ्टिंग कितने प्रकार के होते हैं ?

  1. स्प्लिस ग्राफ्टिंग (Splice grafting)
  2. सैडल ग्राफ्टिंग (Saddle grafting)
  3. एप्रोच ग्राफ्टिंग (Approach grafting)
  4. क्लेफ्ट ग्राफ्टिंग (Cleft grafting)
  5. साइड ग्राफ्टिंग (Side grafting)
  6. फ्लैट ग्राफ्टिंग (Flat grafting)

पौधे की ग्राफ्टिंग कैसे की जाती है ?

आज के समय पौधो में कई प्रकार से ग्राफ्टिंग की जाती है, तकनीक के मानकों/ तरीको से अलग-अलग एगल, तना के प्रकार, पौधे की आयु, जलवायु-तापमान, आदि को ध्यान में रखते हुए की जा सकती है | सामान्य ग्राफ्टिंग जड़ वाले पौधे की शाखा(रूट स्टॉक) को तिरछे एगल दोनों के सिरों को 1 से 5 इंच तक किसी चाक़ू या प्रूनर से काटा जाता है |

तिरछे कटी हुई शाखा वाले भाग को रूट स्टॉक के कटे भाग को आपस में जोड़ने के बाद टेप से कसकर बाँध दिया जाता है | 1-2 सप्ताह में दोनों शाखाओ के ऊतक संचरण शुरू हो जाता है, धीरे-धीरे पौधे की वृद्धि और दोनों तनों से एक नया पौधो तैयार होकर जल्द फल-फूल आने शुरू हो जाते है |

ग्राफ्टिंग-कैसे-की-जाती-है

ग्राफ्टिंग के फायदे?

बागवानी के लिए सबसे जरूरी होता है, बाजार की मांग के अनुसार फल-फ्रूट पैदावार लेना, जो आज के समय ग्राफ्टिंग पौधो ने आसान बना दिया | पौधो के रोग-किट, उपज आदि के लाभ देखते हुए पौधों की ग्राफ्टिंग होना बहुत जरुरी है –

  • ग्राफ्टिंग का इस्तेमाल करके फल देने वाले और फूलों के पौधों की आसानी से बढवार/वृद्धि की जा सकती है |
  • सामान्य तरीको से पेड़ की उम्र/आयु को बढ़ाना सम्भव नही है, लेकिन ग्राफ्टिंग विधि से नए पौधे उसी वर्ष से फल-फूल लगने शुरू हो जाते है |
  • इस विधि से ख़राब जड़ प्रणाली, कम ऊर्जा और कम रोग प्रतिरोधक शक्ति वाले पुराने पौधे को अच्छी वृद्धि के साथ ग्रो करा सकते है |
  • अच्छी किस्म वाले तने से ग्राफ्टिंग कराकर, नये ग्राफ्टेड पौधे साल भर फूल या फल प्राप्त हो सकते हैं |
  • ग्राफ्टिंग विधि से तैयार पौधे की बढवार तेजी से होती हैं और बीज द्वारा उगाये गए पौधों की तुलना में कम समय लेते हैं |
  • इन पौधों को ज्यादा देखभाल की जरूरत नहीं होती है |
  • ग्राफ्टिंग करने से पौधों की रोग प्रतिरोधक शक्ति भी बढ़ जाती है, जिससे पौधों में रोग लगने की कम संभावना होती है |
  • ग्राफ्टेड पौधों से तैयार फलों की क्वालिटी अच्छी होती है, जो बाजार में अच्छे भाव दिलाने में मदद करते है |
ग्राफ्टिंग-के-प्रकार

ग्राफ्टिंग की मदद से विभिन्न किस्मों की सब्जियों, फलों और फूलों वाले पौधों को आसानी से उगाया जा सकता है। इस तकनीक से तैयार किये गए पौधों में अन्य पौधों की तुलना में रोग कम लगते हैं और ऐसे में पौधे स्वस्थ रहते हैं।

ग्राफ्टिंग कौन से महीने में की जाती है?

ग्रीनहॉउस/ पोलीहॉउस में आमतौर पर ग्राफ्टिंग सर्दी के अंत(फरवरी-मार्च महीने ) में या बरसात के शुरूआती दिनों में जून-जुलाई का माह का चयन करना उचित माना गया है |

ग्राफ्टिंग के साथ कौन सा पौधा उगाया जाता है?

ग्राफ्टिंग की मदद से विभिन्न किस्मों की सब्जियों, फलों और फूलों वाले पौधों को आसानी से उगाया जा सकता है |

ग्राफ्टिंग तकनीक से तैयार पौधे में कितना समय लगता है?

एक ग्राफ्टेड ट्री को तैयार होने में 3 से 4 सप्ताह का समय लगता है और एक साल बाद आपका ग्राफ्टेड पेड़ फूल और फल देना शुरू देता है |

यह भी पढ़े –

Leave a Comment

error: Alert: Content is protected !!