[ kivi ki kheti ] कीवी फ्रूट की खेती 2021 और जानिए- कीवी फल भारत में कहाँ पाया जाता है

कीवी फल की कीमत | कीवी की खेती | kivi ki kheti | कीवी का बीज कैसे उगाएं | कीवी फ्रूट की खेती | राजस्थान में कीवी की खेती | कीवी का पेड़ कहां मिलेगा | कीवी की खेती कैसे करे

प्रगतिशील किसानों मे दिख रहा है जोस- देश मे कीवी की खेती को लेकर बन रही है किसान आय वृद्धि की भारी संभावना | वर्तमान मे देश मे कीवी की खेती कम क्षेत्र मे होने के कारण मांग की पूर्ति हो रही है विदेशी बाजारों से | पिछले कुछ वर्षों से विदेशों से कीवी का आयात बढ़ा है जिसमे चीन, नीजलेंड, ऑस्ट्रेलिया, स्पेन, फ्रांस जैसे देशों से आयात हो रहा है |

kivi-ki-kheti

मानव शरीर को विटामिन बी और सी का भरपूर खजाना माना जाने वाले कीवी का फल मे कैल्शियम, फास्फोरस, पोटेशियम जैसे खनिज भी हैं | इस लेख मे बात करेंगे कीवी की खेती कैसे करे, कीवी फल की कीमत, कीवी का पेड़ कहां मिलेगा, kivi ki kheti से जुड़ी सम्पूर्ण जानकारी के बारे मे –

आम की खेती | आम की खेती की जानकारी 2021 | आम की खेती से कमाई

कीवी की खेती कब और कैसे की जाती है –

यह एक प्रकार से मुनाफा और नगदी वाली खेतियों मे गिनी जाती है इसलिए खेती को अच्छी देखरेख के साथ करना चाहिए | कीवी पौधे को अधिक वर्षा की आवश्यकता नहीं होती है | इसके पौधे सर्दी में अधिक पैदावार देते हैं –

कीवी की खेती की तैयारी कैसे करें ?

बता दे की यह खेती 5-6 वर्ष बाद मे फल देने लगती है इसलिए हर एक तैयारी अच्छे से होनी उत्तम मानी जाती है |

  • खेत की तैयारी मे दो-तीन बार अच्छी जुताई कर, खेत को समतल बना देना चाहिए |
  • उसमें 3 फिट गहरे 2 फीट चोड़ाई मे गड्ढे तैयार कर गड्ढों को खेत में पंक्ति में तैयार कर दें |
  • प्रत्येक पंक्तियों के बीच लगभग 4 मीटर यानि की लगभग 10-12 फिट की दूरी रखी जाती है |
  • जैविक उर्वरकों की उचित मात्रा का प्रयोग करते हुए मिट्टी में मिलाकर खड्डों को भर देते हैं |
  • हल्की सिंचाई कर,अब हमारा खेत तैयार हो गया है |
कीवी की खेती कैसे करे | कीवी फ्रूट की खेती

Kivi ki kheti मे जलवायु और तापमान ?

हल्की उष्ण और शीतल जलवायु उपयुक्त होती है | अत्यधिक गर्मी या तेज हवा इसके पौधे के लिए नुकसानदायक होती है |

  • इसके पौधे को अंकुरित होने के लिए 15 डिग्री सेल्सियस के आस-पास का तापमान उत्तम है |
  • जबकि गर्मियों में अधिकतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस से ज्यादा नहीं होना चाहिए |
  • कीवी के पौधे पर फल बनने के दौरान 5 से 7 डिग्री तापमान जरूरी होता है |

कीवी फल की खेती के लिए उपयुक्त मिट्टी ?

कीवी की खेती के लिए गहरी दोमट और हल्की अम्लीय मिट्टी की जरूरत होती है | इसके लिए मिट्टी का लगभग 5 से 6 PH मान के बीच होना चाहिए | इसके पौधे के विकास के लिए अच्छे जल निकाल वाली समतल मिट्टी होनी चाहिए और जैविक-कार्बनिक पदार्थों की मात्रा ज्यादा होनी चाहिए |

अंगूर की खेती कैसे होती है |

कीवी पौधा रोपण का उपयुक्त तरीका ?

कीवी फल के पौधों का चयन नर्सरी में तैयार पौधे लगाने चाहिए, जो उच्च गुणवता और वैराइटी के होते है | कीवी फल के पौधों की रोपाई खेत में तैयार किए गए गड्ढों में करने से लिए पहले गड्ढों के नीचे छोटा खड्डा तैयार किया जाता है | इन गड्ढों में नर्सरी में तैयार किए गए पौधे लगा देते हैं और पौधे की रोपाई के बाद पौधे के चारों तरफ मिट्टी डालकर अच्छे से दबा देते हैं | भारत मे जलवायु के अनुसार इसकी खेती का उत्तम समय दिसंबर और जनवरी के महीने में माना जाता है |

कीवी का पेड़ कहां मिलेगा

सिंचाई कब और कैसे करें ?

कीवी फल के पौधे में सिंचाई का विशेष ध्यान रखा जाता है, इसके पौधे की पहली सिंचाई पौधे रोपाई के तुरंत बाद करनी चाहिए उसके बाद से गर्मियों के मौसम में 3 से 4 दिन के अंतराल में पानी देना चाहिए |

kivi-ki-kheti
कीवी की खेती कैसे करे | कीवी फ्रूट की खेती

सर्दियों में 8 से 10 दिन में सिंचाई अच्छी होता है जबकि बारिश के मौसम में पानी की कमी दिखाई दे तो तुरंत ही इस की सिंचाई कर लेनी चाहिए |

उर्वरकों की मात्रा व खरपतवार नियंत्रण ?

कीवी के पौधे मे उर्वरकों की मात्रा- कीवी के पौधे को उर्वरकों के रूप में जैविक व रासायनिक दोनों खाद दे सकते है | शुरुआत में पौधा रोपण के समय गड्ढों में 20 kg गोबर की खाद और 50g M. P. K. की मात्रा को मिट्टी में मिला कर गड्ढों में भर देना चाहिए |

पौधे को यह मात्रा शुरुआत के 2 साल तक ही देनी चाहिए, पौधे की वृद्धि के साथ-साथ इनकी मात्रा भी बड़ा देनी चाहिए और खाद देने के बाद सिंचाई कर देनी चाहिए |

कीवी फल की खेती में खरपतवार नियंत्रण- पौधे की रोपाई में लगभग 20 से 25 दिन बाद पहली गुड़ाई कर देनी चाहिए इसके बाद हर महीने पौधे की निराई-गुड़ाई करनी चाहिए |

ड्रैगन फ्रूट के पौधे कहां मिलेंगे | ड्रैगन फ्रूट की खेती | ड्रैगन फ्रूट की कीमत

रोग और रोकथाम ?

कीवी फल के पौधे में वैसे कोई ज्यादा और विशेष रोग-किट नहीं लगते है, लेकिन जड़ गलन का रोग पौधे में जलभराव भी वजह से दिखाई दे सकता है | इसके लिए पौधे की जोड़ों को बवि-सिस्टा की उचित मात्रा को छिड़काव जलभराव समाप्त होने के बाद कर देना चाहिए |

कीवी फल की खेती में पौधों की देखरेख का विशेष ध्यान रखे, इसके पौधे को फेलने के लिए सहारे की जरूरत होती है | इसके पौधे को सहारा देने के लिए पाई आकार की लोहे की एंगल को पंक्तियों के साथ लगा देना चाहिए, यह पौधा उन पर चढ़कर आसानी से अपना विकास कर सके |

कीवी की उन्नत किस्में ?

एब्बोट कीवी वैराइटीइस कीवी वैराइटी मे जल्दी फल व फूल आते हैं यह अगेती किस्म है जो स्वाद मे बहुत मीठी है |
तोमुरीइस किस्म को पोल्लेनाइजर के तौर पर लगाया जाता है |
ब्रुनो कीवी प्रजातिब्रुनो कीवी कम ठंड की आवश्यकता पड़ती है इसके फल सबसे लंबे होते हैं और फ्रूटीग भी अधिक होती हैं |
मोंटी कीवीमोंटी किस्मों मे फूल थोड़े देरी से आते हैं, लेकिन फल जल्दी पक जाते हैं इस किस्म पर बहुत ज्यादा फल आते हैं |
हेयवर्ड कीवी वैराइटीयह दुनिया की सबसे पॉपुलर किस में है लेकिन उसका फल जो आता है वह बहुत कम आता है कभी-कभी तो 2 साल में एक बार ही अच्छा आता है और 1 साल अच्छा फल नहीं आता है इस फल की लंबाई अधिक वह चौड़ाई कम होती है इसकी मिठास और स्वाद सबसे अच्छा होता है उसको ठंड की सबसे ज्यादा आवश्यकता होती है |

लैवेंडर की खेती | लैवेंडर की खेती कैसे की जाती है

कीवी के पौधे में फल कब आते हैं और तुड़ाई कब करें:-

कीवी के पौधे खेत में लगाने के 4 साल बाद पैदावार देना शुरु कर देते हैं, लेकिन पूर्ण रूप से 5-6 साल भरपूर फल लगने लग जाते है | फरवरी माह के बाद फूल खिलने शुरू कर देते हैं जो अक्टूबर से नवंबर माह मे पककर तैयार हो जाते हैं | इसके फल तीन से चार दिनों तक खराब नहीं होते हैं | जब इसके फल पकने के बाद नरम और आकर्षक सुनहरे रंग में दिखाई देने लगे तब इन्हें तो लेना चाहिए फलों को तोड़कर इन्हें छायादार जगह में रखें |

kivi-ki-kheti

कीवी की खेती से कमाई व कीवी फल की कीमत ?

देश मे कीवी फल की उत्पादकता कम और पैदावार कम होने के कारण मांग एव पूर्ति के बीच काफी अंतर बना हुआ है | वर्तमान मे देश के किसान भाइयों को कीवी की खेती से अच्छी कमाई हो जाती है –

कीवी फल की कीमत का बाजार भाव 150 से लेकर 400 रुपये प्रति किलोग्राम तक होता है-आसमान छू रहे कीवी और पपीते के भाव |

  • लगभग कीवी के प्रत्येक पौधे में 80 से 100 kg तक फल प्राप्त हो जाते हैं |
  • 1 हेक्टेयर मे 400 से 450 पौधे तक लगाए जाते हैं |
  • किसान भाइयों यदि आप उन्नत तरीकों से कीवी फल की खेती से औसत भावों मे एक हेक्टेयर में 10 से 15 लाख रुपए(4-5 वर्ष बाद ) हर साल तक कमा सकते हैं |
  • कीवी फल को गुणकारी फलों के साथ फलों मे सबसे महंगा फल भी माना जाता है |

अमेरिका के किसान | अमेरिका की मुख्य फसलें | अमेरिका के गांव

कीवी फल महंगा क्यों है ?

कीवी का फल मुख्य रूप से चीन की पैदावार है जो दुनिया भर में 56% कीवी फल का उत्पादन करता है | कीवी फल का पैदावार कम और प्रचलन कम होने से सभी क्षेत्रों मे मांग कम है | जागरूक और डॉक्टरों के अनुसार इसकी बाजार मे मांग और उचे भाव बने हुए है |

वर्तमान देश मे ज्यादातर किसान कीवी की खेती कम कर रहे हैं, जिससे उत्पादन कम होने से कीवी फल का मूल्य अधिक है |

कीवी फल भारत में कहाँ पाया जाता है ?

देश मे कीवी फल की खेती उतरी भारत मे ज्यादातर की जाती है जिसमे हिमाचल, जम्मू-कश्मीर, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश की जलवायु के अलावा देश के पहाड़ी क्षेत्रों सिक्किम, मेघालय, अरुणाचल प्रदेश, कर्नाटक और केरल में भी इसका उत्पादन होता है |

कीवी फल की कीमत ?

कीवी के वर्तमान भावों की बात करए तो कोरोना कल मे 3-4 गुने उचे भावों मे बिक रहे है जिसमे 4-5 कीवी के पीस 300-400 रुपये के पैकीटो मे मिल रहा है | बता दे आज के तज कीवी फल के रेट देखने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें –

ज्यादातर पूछे जाने वाले सवाल –

कीवी का पौधा कितने दिन में फल देता है?

कीवी की खेती मे पौधे लगाने के 5-6 वर्ष बाद मे फल- फूल आने लगते है | एब्बोट कीवी वैराइटी जल्दी फल व फूल आते हैं यह अगेती किस्म मानी जाती है |

कीवी का पौधा कितना बड़ा होता है?

कीवी का पौधा, अंगूर की बैलों की जैसे फैलने वाला पौधा होता है जो पौधे को सहारा देने के लिए पाई आकार की लोहे की एंगल को पंक्तियों के साथ लगा देना चाहिए, यह पौधा उन पर चढ़कर आसानी से अपना विकास कर सके |

कीवी फल कितने रुपए किलो है?

सामान्यतः कीवी फल की कीमत का बाजार भाव 150 से लेकर 400 रुपये प्रति किलोग्राम तक होती है-आसमान छू रहे कीवी और पपीते के भाव |

कीवी फल कहाँ पैदा होता है?

हिमाचल, जम्मू-कश्मीर, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश की जलवायु के अलावा देश के पहाड़ी क्षेत्रों सिक्किम, मेघालय, अरुणाचल प्रदेश, कर्नाटक और केरल में भी इसका उत्पादन होता है |

सब्जी की खेती से कमाई | सब्जियों की अगेती खेती | सब्जी की खेती

Leave a Comment